Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2020 · 2 min read

*** ” मन मेरा क्यों उदास है….? ” ***

* हम सब पास-पास हैं ,
फिर क्यों…? मन मेरा इतना उदास है ।
चाँद और सूरज भी आस-पास है ,
जो अनंत किरणों के विन्यास हैं ।
सुरम्य शाम और मनोरम सवेरा है ,
फिर भी क्यों…? इतना अंधेरा है ।
हवाओं में मौज है , मस्ती है ;
और एक अद्भुत तरंग भरी उमंग है।
अनमोल प्रकृति की ,
अनुपम हरियाली भी मेरे संग है।
सुर है, साज है, सरगम भरी,
मधुर ,नई अंदाज है ;
सागर है , समंदर है , फिर क्यों..?
इतना प्यास है।
पल-पल हर पल ख़ास है,
हर क्षण कितना लाजवाब है ;
फिर भी, मन मेरा क्यों…?
इतना उदास है।

** माँ है…! , ममता वही ;
जनक है…! , जानकी वही ।
प्रकृति वही , संस्कृति वही ;
इंद्र-धनुश की सप्तरंग वही ,
राग में अंदाज वही।
फिर… मेरे मन में ,
क्यों…? उमंग नहीं।
हर एक मौसम में भी,
कितना खुश मिजाज़ है ;
फिर भी मन मेरा क्यों…?
इतना उदास है।

*** जो तथ्य में निहित है ,
वही सत्य के संग विहित है।
जो दृष्टि में है ,
वही प्रकृति की सृष्टि में है ।
हवाओं में भी ,
मौज की एक रवानी है ,
हर घटना की ,
एक अज़ब -गज़ब कहानी है।
फिर….मेरे मन में, क्यों…?
आस नहीं ;
जीवन जीने का , क्यों…?,
आज अंदाज नहीं।
अद्भुत रचनाओं से भरमार…
और आपार , यह संसार ;
जहाँ सब कुछ है, साकार ।
फिर…मेरे मन में भर पड़ा है, क्यों..?
इतना विकार।
प्रकृति में भी एक क्रम है ,
फिर मुझमें क्यों..? इतना भ्रम है ।
विधि है , विधाता है…! ;
निधि है , आपार समृद्धि भी है ;
फिर…क्यों…?
मेरे मन में इतनी विकृति है।
मेरा मन , मेरा तन ,
मेरी आत्मा , मेरे पास हैं ;
फिर क्यों …..?
मन मेरा इतना उदास है।

**** क्योंकि….!
” शायद मेरे मन में एक आत्म विश्वास नहीं । ”
” शायद कल्पना है , पर एक संकल्प नहीं । ”
” चित है , पर चिंतन नहीं । ”
” सोंच है , पर समझ नहीं । ”
” नवीनता है , पर नमन नहीं । ”
और
” शायद मेरे मन में , एक शुद्ध विचार नहीं। ”
” शायद मेरे मन में , एक शुद्ध विचार नहीं। ”

****************∆∆∆****************

बी पी पटेल
बिलासपुर ( छ. ग. )

Language: Hindi
4 Comments · 604 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुनिया रैन बसेरा है
दुनिया रैन बसेरा है
अरशद रसूल बदायूंनी
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
Dr. Man Mohan Krishna
खता कीजिए
खता कीजिए
surenderpal vaidya
"मैं मोहब्बत हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
माना सांसों के लिए,
माना सांसों के लिए,
शेखर सिंह
24/252. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/252. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
//खलती तेरी जुदाई//
//खलती तेरी जुदाई//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
Slok maurya "umang"
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
सच
सच
Neeraj Agarwal
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
भक्त गोरा कुम्हार
भक्त गोरा कुम्हार
Pravesh Shinde
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उम्र ए हासिल
उम्र ए हासिल
Dr fauzia Naseem shad
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
Loading...