Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

भ्रम

मन में भ्रम पाले बैठे हैं
कुछ लोग दिखावे को सच मान बैठे हैं
करता है कोई नाम होता किसी का
रोज़ होते तमाशों का पैरोकार बने बैठे हैं
मेहनत के नाम पर केवल नीचा दिखाना आता है
अपनी बनाई दुनिया के शहंशाह बन बैठे हैं
कुछ तो कहते! करो या ना करो
दोनों पक्ष के बीच में झूला डाल के बैठे हैं
मेरी भलमनसाहत जिन्हें दिखती नहीं
मेरी छोटी सी गलती पर आंख गड़ाए बैठे हैं
या खुदाया रहम करना मेरे रक़ीबो पर
न मालूम मेरे वास्ते कहां-कहां खंजर छुपाए बैठे हैं।

Language: Hindi
1 Like · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक नारी की पीड़ा
एक नारी की पीड़ा
Ram Krishan Rastogi
Ignorance is the best way to hurt someone .
Ignorance is the best way to hurt someone .
Sakshi Tripathi
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
रक्षा बन्धन पर्व ये,
रक्षा बन्धन पर्व ये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"जिसे जो आएगा, वो ही करेगा।
*Author प्रणय प्रभात*
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
"बल"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ भारती की पुकार
माँ भारती की पुकार
लक्ष्मी सिंह
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
Keshav kishor Kumar
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
*सबको भाती ई एम आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*सबको भाती ई एम आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
3477🌷 *पूर्णिका* 🌷
3477🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जागृति
जागृति
Shyam Sundar Subramanian
निर्मल भक्ति
निर्मल भक्ति
Dr. Upasana Pandey
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
जिंदगी की किताब
जिंदगी की किताब
Surinder blackpen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सत्य मिलता कहाँ है?
सत्य मिलता कहाँ है?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
Bidyadhar Mantry
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...