Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w

Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya wo naseeb hai… Gameydoor ka ye waqt tha… Kal bhi theek tha… Ab bhi theek hai.

212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2270.
2270.
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-30💐
💐अज्ञात के प्रति-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
"माँ की ख्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ms.Ankit Halke jha
बेरोजगारी।
बेरोजगारी।
Anil Mishra Prahari
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
जिंदगी है एक सफर,,
जिंदगी है एक सफर,,
Taj Mohammad
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
sushil sarna
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
लिखना
लिखना
Shweta Soni
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बूत परस्ती से ही सीखा,
बूत परस्ती से ही सीखा,
Satish Srijan
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रकृति और तुम
प्रकृति और तुम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*बेचारे नेता*
*बेचारे नेता*
दुष्यन्त 'बाबा'
जीवन का इतना
जीवन का इतना
Dr fauzia Naseem shad
*दादा-दादी (बाल कविता)*
*दादा-दादी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...