Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

भूमि दिवस

भूमि दिवस पर भूमि मां का ,
मिलकर सब गुणगान करें ।
हाथ जोड़कर दोनों हम सब ,
धरती माता को प्रणाम करें।।

धरती माता ही हम सब का,
पालन -पोषण करती है ।
मेहनत से बनती उपजाऊ ,
सबका पेट यह भरती है।।

रंग -बिरंगे फूलों का ,
पालन -पोषण करती है।
सुंदर बनाती जग सारा,
तन- मन खिलता खूब हमारा।।

नदियां सागर पर्वत झरने,
सब है इस पर डटे हुए।
जीव जंतु और वनस्पति ,
सब है इस पर टिके हुए।।

धरती है तो है जग सारा ,
लगता सुंदर प्यारा प्यारा।
आज धरा को जख्म भारा,
हमने ही चला रखा आरा।।

सतपाल का इस पर ठिकाना ,
सबने एक-एक पौधा लगाना।
यही एक दृढ संकल्प हमारा ,
अगर धरती मां को है बचाना।।

सतपाल चौहान।

Language: Hindi
3 Likes · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
मन कहता है
मन कहता है
Seema gupta,Alwar
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
स्त्री
स्त्री
Dinesh Kumar Gangwar
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
नवगीत : मौन
नवगीत : मौन
Sushila joshi
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
"अनुत्तरित"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
Taj Mohammad
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
मजदूर दिवस पर
मजदूर दिवस पर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
2673.*पूर्णिका*
2673.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ सीढ़ी और पुरानी पीढ़ी...
■ सीढ़ी और पुरानी पीढ़ी...
*Author प्रणय प्रभात*
Tum hame  nist-ee nabut  kardo,
Tum hame nist-ee nabut kardo,
Sakshi Tripathi
Loading...