Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 2 min read

*भूमिका*

भूमिका

बच्चे भगवान का रुप होते हैं। उनका हृदय कोमल और निश्छल होता है। वे सीधे-साधे, सच्चे और निष्कपट होते हैं। उनकी कविताओं में भी यही भाव प्रकट होने चाहिए। जितनी कृत्रिमता हम बच्चों की कविताओं में लाऍंगे, वह बच्चों की नैसर्गिक प्रवृत्ति से दूर होती चली जाऍंगी। सहज भाव में जो रच गया, वही बाल कविता है ।

ऐसा नहीं है कि बच्चों को कुछ सिखाने की आवश्यकता नहीं होती है। कविताओं के द्वारा भी बच्चे बहुत कुछ सीखते हैं। हमें उन्हें सिखाना भी चाहिए और बच्चों को सीखना भी चाहिए। इसलिए बच्चों को कविताओं के द्वारा कुछ सिखा देने का प्रयास गलत नहीं होता।

बच्चों के लिए यह जो कविताऍं मैंने लिखी हैं, वह बच्चों की कविताओं की कसौटी पर उनके लिए कितनी सही सिद्ध होती है, यह तो बच्चे ही बताऍंगे। बच्चों के अभिभावक और गुरुजन भी इस पुस्तक को पढ़कर इन की उपादेयता के बारे में राय बना सकते हैं।

बच्चों की कविताऍं केवल बच्चों के लिए ही हों, यह आवश्यक नहीं है। युवा और वृद्ध भी यदि इन कविताओं को पढ़ेंगे, तो उन्हें आनंद आएगा। उनका ज्ञान बढ़ेगा। सबसे अच्छी बात है कि वह इन कविताओं को पढ़कर अपने बचपन में पहुॅंच जाऍंगे। सब कुछ बनना सरल है, लेकिन हृदय में बालपन को उत्साह से साथ सजीव कर लेना सबसे कठिन है । हम सब सदा बच्चे बने रहें, ईश्वर से इसी प्रार्थना के साथ यह बाल कविताओं का संग्रह ‘चटकू मटकू’ लोक को अर्पित है।

रवि प्रकाश पुत्र श्री राम प्रकाश सर्राफ, बाजार सर्राफा (निकट मिस्टन गंज), रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451
ई-मेल
raviprakashsarraf@gmail.com

दिनांक 9 जनवरी 2024

75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*
*"वो भी क्या दिवाली थी"*
Shashi kala vyas
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
काल  अटल संसार में,
काल अटल संसार में,
sushil sarna
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
2337.पूर्णिका
2337.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
Ansh Srivastava
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
ruby kumari
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
■ यादों की खिड़की-
■ यादों की खिड़की-
*Author प्रणय प्रभात*
हमनवा
हमनवा
Bodhisatva kastooriya
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-478💐
💐प्रेम कौतुक-478💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
*आजादी का अर्थ है, हिंदी-हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
*आजादी का अर्थ है, हिंदी-हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
सर्वे भवन्तु सुखिन:
सर्वे भवन्तु सुखिन:
Shekhar Chandra Mitra
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
Loading...