Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2022 · 1 min read

भूख

भूख
~~°~~°~~°
भूख से बिलबिलाता तन ,
धूल धूसरित उलझे बाल ,
झुर्रियों से भरा मुरझाया चेहरा ,
कपाल पर लिखा है जो ,
भूख से रहना प्रतिदिन बेहाल ।
तक़दीर का कसूर कहूँ ,
या कहूँ देश का सूरत-ए-हाल ।
जानता कोई नहीं इसका हल ,
पर है यह पापी पेट का सवाल।
जन्म लेना धरा पर ,
अपने वश में तो नहीं ,
फिर क्यों नहीं है ?
भोजन पर सबका अधिकार ।
गरीबी का कहर है ,
आज के समाज का जहर ।
भूख से मजबूर होकर ,
कचरे के डिब्बे में खोजता ,
जूठे अन्न के दानों को मोहताज ,
ये है आज का मशीनी युग व समाज ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि –०७ /११/२०२२
कार्तिक,शुक्ल पक्ष,चतुर्दशी ,सोमवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail

9 Likes · 5 Comments · 262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
ललकार भारद्वाज
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
#मेरे_दोहे
#मेरे_दोहे
*Author प्रणय प्रभात*
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी
Anil "Aadarsh"
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3023.*पूर्णिका*
3023.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिसम्बर की सर्द शाम में
दिसम्बर की सर्द शाम में
Dr fauzia Naseem shad
"बगुला भगत"
Dr. Kishan tandon kranti
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
Ravi Prakash
Loading...