Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 2 min read

भीम षोडशी

एक दिवस जब करिवरपुर में, बैठे धर्मराज सजधज
तभी लिए एक अरज पत्रिका, आए मिलने उनसे द्विज (१)

बोले स्वामी अति गरीब मैं, कोई दान मुझे दीजे
आप चक्रवर्ती सम्राट युधिष्ठिर नाथ कृपा कीजे (२)

बोले राजन व्यस्त अति मैं, इस क्षण द्विजवर आना कल
कर दूंगा मैं हर संभव सहायता, समय नहीं इस पल (३)

भीम खड़े थे पास में उनके हुआ गज़ब विस्मय उनको
आज तो अहो भाग्य मेरे जो देख रहा हूँ इस क्षण को (४)

तभी द्वार पर जाके दुंदुभि बाजन लागे अति प्रबल
देख दृष्टता सबने सोचा मारी गयी क्या इसकी अकल (५)

महाबली तो कभी अशिष्टता राजसभा में नहीं करते
ये कैसे अंदाज़ अनोखे आज नयन से हमें दिखते (६)

द्रुपदकुमारी बोलीं स्वामी क्यों मज़ाक उड़वाते हो
बल के साथ आप बुद्धि में भी अनुपम कहलाते हो (७)

बोले बिहसे भीम सुनो प्रिय पटरानी इस कुरुकुल की
आज तो भैया प्यारे ने तेरी भरी मांग अटल करदी (८)

समझ सकीं ना भोली द्रौपदी व्यंग प्रभंजन जाए का
किस आमोद में मगन महाबली और आनन्द है काहे का (९)

पुनि बोले सुनो मखसैनी जो भी जन्मा इस धरती पर
एक न एक दिन जाना ही पड़ता उसको त्यजकर यह घर (१०)

मैं भी तुम भी ये सभ भाई माता बंधू सभी सकल
जाएंगे उस परमधाम को मृत्यु सबकी सदा अटल (११)

केवल भ्राता धर्मराज ही चिरजीवी कहलाएंगे
क्यूंकि उनके जीवन में हैं स्पष्ट पता कल आएंगे (१२)

मैं तो केशव की गीता का सार यही अपनाता हूँ
आज को आज ही जीकर के मृत्यु के लिए सो जाता हूँ (१३)

कल क्या जाने किसे दिखे और किसे दिखे ना किसे पता
भ्राता मेरे कालजयी और काल की चाल है इन्हें पता (१४)

सुनकर धर्मराज भी सकुचे क्षुब्ध हुए लिए सचिव बुला
उसी समय धन धान्य दान कर द्विजवर सादर किये बिदा (१५)

बोले प्रियवर अनुज तुम्हारे ज्ञान को कोई सानी नहीं
मैं अज्ञानी “जड़मति” देखो जिसने कैसी बात कही!!
मैं अज्ञानी “जड़मति” देखो जिसने कैसी बात कही!! (१६)

Language: Hindi
1 Like · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
कभी कभी हम हैरान परेशान नहीं होते हैं बल्कि
Sonam Puneet Dubey
कृतिकार का परिचय/
कृतिकार का परिचय/"पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
निहारा
निहारा
Dr. Mulla Adam Ali
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
"चिढ़ अगर भीगने से है तो
*प्रणय प्रभात*
कांग्रेस के नेताओं ने ही किया ‘तिलक’ का विरोध
कांग्रेस के नेताओं ने ही किया ‘तिलक’ का विरोध
कवि रमेशराज
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
Sanjay ' शून्य'
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
Lokesh Sharma
Outsmart Anxiety
Outsmart Anxiety
पूर्वार्थ
मन को मना लेना ही सही है
मन को मना लेना ही सही है
शेखर सिंह
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
Swara Kumari arya
पथ नहीं होता सरल
पथ नहीं होता सरल
surenderpal vaidya
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
संतोष
संतोष
Manju Singh
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
Dr MusafiR BaithA
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
Smriti Singh
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
जब मैं लिखता हूँ
जब मैं लिखता हूँ
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अगर आप रिश्ते
अगर आप रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...