Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2023 · 1 min read

भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार

बल्लेबाज करेंगे रन की, तूफ़ानी बौछार।
चौके छक्कों की आएगी, फिर एक नई बहार।।
गेंदबाजों का होगा फिर से, जोड़दार प्रहार।
उड़ जाएंगे कंगारू, भैया अबकी बार।।
महा मुकाबले में होगी, भारत की जयजय कार।
कुछ ही घंटे शेष हैं,हम ज़श्न को हैं तैयार।।

Language: Hindi
1 Like · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
Atul "Krishn"
अंधविश्वास
अंधविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सत्य को अपना बना लो,
सत्य को अपना बना लो,
Buddha Prakash
Chhod aye hum wo galiya,
Chhod aye hum wo galiya,
Sakshi Tripathi
कविता
कविता
Rambali Mishra
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
"उन्हें भी हक़ है जीने का"
Dr. Kishan tandon kranti
पूछूँगा मैं राम से,
पूछूँगा मैं राम से,
sushil sarna
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
मजदूर दिवस पर विशेष
मजदूर दिवस पर विशेष
Harminder Kaur
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
Paras Nath Jha
*जिनके मन में माँ बसी , उनमें बसते राम (कुंडलिया)*
*जिनके मन में माँ बसी , उनमें बसते राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा हाथ
मेरा हाथ
Dr.Priya Soni Khare
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
जय अन्नदाता
जय अन्नदाता
gurudeenverma198
बुंदेली दोहा- अस्नान
बुंदेली दोहा- अस्नान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्राण- प्रतिष्ठा
प्राण- प्रतिष्ठा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मांँ ...….....एक सच है
मांँ ...….....एक सच है
Neeraj Agarwal
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
Loading...