Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)

भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
—————————————
(1)
भरोसा जिंद‌गी का क्या ,न जाने मौत कब आए
दिखा दो अपना मुखड़ा तो ,सफल यह जन्म हो जाए
(2)
ख्यालों में तो तुमसे रोज ,होती हैं मुलाकातें
तुम्हारा चेहरा अब तक ,नहीं पहचान हम पाए
(3)
तुम्हारे प्रेम में पड़कर ,ये दुनिया छोड़ दी हमने
हमें मस्ती-नशे का अर्थ ,अब कोई न समझाए
(4)
सुना है हम अमर आत्मा हैं, मालिक अंश तुम्हारे
कभी कोई जरा अनुभूति, हमको भी तो करवाए
(5)
हजारों जन्म की यात्रा में, पाया बस अधूरापन
हमेशा चूक ही पाई, रहे आखिर में पछताए
—————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

522 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
ज़िंदगी - एक सवाल
ज़िंदगी - एक सवाल
Shyam Sundar Subramanian
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
Rj Anand Prajapati
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#ऐसे_समझिए...
#ऐसे_समझिए...
*प्रणय प्रभात*
' जो मिलना है वह मिलना है '
' जो मिलना है वह मिलना है '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
Dheerja Sharma
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
gurudeenverma198
*आओ पूजें वृक्ष-वट, करता पर-उपकार (कुंडलिया)*
*आओ पूजें वृक्ष-वट, करता पर-उपकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मतदान
मतदान
Dr Archana Gupta
"इंसान और सपना"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...