Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 1 min read

बेवफा

तुझे बेवफा कैसे कहूं,
वफा तो तुमने की ही नहीं।
साथ मरने की कसमें खाई थी,
पर साथ तो तुमने जी ही नहीं।
तुझे बेवफा . . . . . .
अब तो कभी कभार,
हवा के झोंको की तरह,
तेरी याद आ जाती है।
बीते हंसी लम्हे आंखों में,
चल चित्र की तरह,
स्वा चलित हो जाती है।
दिलों के पिछले पन्नों को,
उलट कर जब भी देखता हूं,
वो घाव जो तुमने दिए थे,
आज भी संजो कर रखता हूं।
तुझे हम दर्द कैसे कहूं,
दर्द तो तुमने ली ही नहीं।
तुझे बेवफा. . . . . .
जिंदगी एक सफर है,
और सफर में,
हमराही मिल ही जाते हैं।
कभी न कभी कहीं ना कहीं,
किसी मोड़ पे,
हम तन्हाई में तुम्हें पाते हैं।
जब भी तुम याद आती हो,
मै जानता हूं,
तुमने मुझे याद किया है।
उस एक पल में भी,
तुमने उन बीते,
लाखों पलों को जिया है।
तुझे हम सफर कैसे कहूं,
दो कदम साथ चले ही नहीं।
तुझे बेवफा . . . . . .

Language: Hindi
2 Likes · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Sakshi Tripathi
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
नूरफातिमा खातून नूरी
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Are you strong enough to cry?
Are you strong enough to cry?
पूर्वार्थ
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
Keshav kishor Kumar
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
राकेश चौरसिया
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
Shubham Pandey (S P)
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
"फ्रांस के हालात
*Author प्रणय प्रभात*
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मक़रूज़ हूँ मैं
मक़रूज़ हूँ मैं
Satish Srijan
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
Sukoon
"मोमबत्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
Naushaba Suriya
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत शत नमन*
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत शत नमन*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बेचैन हम हो रहे
बेचैन हम हो रहे
Basant Bhagawan Roy
Loading...