Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

बेवफ़ा इश्क़

इश्क सीखने को मैंने सोचा तुमसे,
सुना तुमसे इश्क करने को जमाने जाने लगे।
और बिछड़ा जो भी तुमसे तो हाल मैंने देखा उनका
तुमसे बिछड़ कर यार सब मयखाने जाने लगे।।
शराब का नशा बहुत बुरी लत है, तेरे इश्क का नशा करके लोगों की जाने जाने लगे।
और जो कुछ बच गए तेरे इश्क में मरने से
वे बचे लोग आज शायर जाने जाने लगे।।
तुझसे इश्क़ में जीती हर दफा मधुयंका,
जो रूठी एक बार तो तुम मनाने आने लगे।
शायद महफिल की बदनामी से डर गए तुम यार
इसलिए तुम मुझसे इश्क निभाने आने लगे।।

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अजीब करामात है
अजीब करामात है
शेखर सिंह
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
करूँ प्रकट आभार।
करूँ प्रकट आभार।
Anil Mishra Prahari
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
शोहरत
शोहरत
Neeraj Agarwal
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
"ये जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
Ram Krishan Rastogi
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
आर.एस. 'प्रीतम'
झूठ
झूठ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बड़ी बेरंग है ज़िंदगी बड़ी सुनी सुनी है,
बड़ी बेरंग है ज़िंदगी बड़ी सुनी सुनी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
आम के छांव
आम के छांव
Santosh kumar Miri
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
सब तमाशा है ।
सब तमाशा है ।
Neelam Sharma
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
Indu Singh
मेरे भोले भण्डारी
मेरे भोले भण्डारी
Dr. Upasana Pandey
Loading...