Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2017 · 1 min read

( बेटी )

( बेटी )

क्या मेरा हैं कसूर
तू बता दे मेरी माँ
कही गड्ढे में कही नाली में
क्या यही हैं मेरी पहचान माँ

मेरी दुनिया इतनी वीरानी क्यों हैं माँ
कही बोरी में कही कचरे में
क्या यही भारत के
वीरो की पहचान हैं माँ

इतनी घृणित हूँ तो जन्म देती हैं क्यो
बेटा ही पहचान हैं तो
बेटी कि जरुरत ही क्या
शान – बान बेटा तो बेटी हैं क्या

जब जरूरत ही नही मेरी तो
गर्भ में ही कर लो मेरी पहचान
मैं हूँ बेटी तो क्या हैं मेरा कसूर
हैं तुम्हें सौगन्ध ना ढुढना बेटे के लिए बहू

– महेश गुप्ता जौनपुरी
मोबाइल – 9918845864

Language: Hindi
618 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रुई-रुई से धागा बना
रुई-रुई से धागा बना
TARAN VERMA
मौत की आड़ में
मौत की आड़ में
Dr fauzia Naseem shad
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
"शोर"
Dr. Kishan tandon kranti
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
2747. *पूर्णिका*
2747. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
*आबादी कैसे रुके, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
*आबादी कैसे रुके, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक मशाल तो जलाओ यारों
एक मशाल तो जलाओ यारों
नेताम आर सी
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
*Author प्रणय प्रभात*
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
अपने वतन पर सरफ़रोश
अपने वतन पर सरफ़रोश
gurudeenverma198
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
Rajni kapoor
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
Loading...