Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

बेटीयां

मां बाप के लिए बहुत दुलारी है बेटियां,
सुकोमल निराली सी प्यारी है बेटियां।

तितलियों की सी चंचल
होती है बेटियां,
प्रकृति की सी निश्छल
होती है बेटियां।

अंधकार में जीवन की प्रकाश
होती है बेटियां,
चार पुत्रों के बीच भी खास
होती है बेटियां।

मां बाप के लिए बहुत दुलारी है बेटियां,
सुकोमल निराली सी प्यारी है बेटियां।

निश्चेतन जीवन में कल्पना उड़ान,
होती है बेटियां,
कुल की तरक्की की एक नई पहचान,
होती है बेटियां।

पिता के लिए कांटों की सेज नहीं,
होती है बेटियां,
सूरज की प्रकाश से भी ज्यादा तेज
होती है बेटियां।

मां बाप के लिए बहुत दुलारी है बेटियां,
सुकोमल निराली सी प्यारी है बेटियां।

बहन, पत्नी, मां और न जाने कितने ही रूपों में,
समाज के सेवा में योगदान देती हैं बेटियां,
अपने त्यागमयी छवि के कारण ही
हर रिश्तों में सबसे महान होती है बेटियां।

मायके में जरूर नटखट सी नादान
होती हैं बेटियां,
ससुराल में मां बाप की
संस्कारों की पहचान होती है बेटियां ।

Language: Hindi
1 Like · 365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
पढ़ने को आतुर है,
पढ़ने को आतुर है,
Mahender Singh
3013.*पूर्णिका*
3013.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
Nanki Patre
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
Nowadays doing nothing is doing everything.
Nowadays doing nothing is doing everything.
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
Ranjeet kumar patre
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
धानी चूनर
धानी चूनर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कभी सोचा हमने !
कभी सोचा हमने !
Dr. Upasana Pandey
... बीते लम्हे
... बीते लम्हे
Naushaba Suriya
"परोपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
“ जियो और जीने दो ”
“ जियो और जीने दो ”
DrLakshman Jha Parimal
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
Shweta Soni
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
रक्तदान
रक्तदान
Neeraj Agarwal
नैन
नैन
TARAN VERMA
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...