Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

बेटी की शादी

बेटी की शादी
बेटी की शादी का जबसे विचार, देखो मेरे मन में आया है।
बदल गया है वातावरण हमारी धर्मपत्नी ने हमें बताया है।।
बहू बेटा और बेटी दामाद सभी पर नशा शादी का छाया है।
सब अपनी अपनी धुन में हैं, सब ने ज़िम्मेदारी का बीड़ा उठाया है।।
खोज शुरू हो गई लड़के की इस खोज ने पागल मुझे बनाया है।
सुन सुन कर बातें लड़कों की, मेरा माथा बहुत चकराया है।।
घर के माहौल का भारीपन जब लड़की की समझ में आया है।
तब हाथ मेरे कंधे पर रख कर, बेटी ने मेरा हौंसला बहुत बढ़ाया है।।
बोली पापा तुमने मुझे पढ़ा लिखा कर इतना काबिल तो बनाया है।
बस बात करो उस लड़के से को मेरी काबलियत देख मांगने आया है।।
जिसे कद्र नहीं है मेरी उसके घर में मैं कैसे सुख से रह पाऊंगी।
जो मेरी काबलियत को पहचानेगा उसके संग मैं खुशी से ब्याह रचाउंगी।।
कहे विजय बिजनौरी सभी मात पिता से अपनी बेटी का सम्मान करो।
सोचो समझो और पढ़ा लिखा कर बेटी को काबिल बनाने पर ध्यान करो।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
Ravi Prakash
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
अंसार एटवी
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
■ सावधान...
■ सावधान...
*Author प्रणय प्रभात*
वर्षा का भेदभाव
वर्षा का भेदभाव
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
ruby kumari
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
दुष्यन्त 'बाबा'
*सेवानिवृत्ति*
*सेवानिवृत्ति*
पंकज कुमार कर्ण
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
जिंदगी आंदोलन ही तो है
जिंदगी आंदोलन ही तो है
gurudeenverma198
3282.*पूर्णिका*
3282.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
Shweta Soni
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"धरती"
Dr. Kishan tandon kranti
मिलन की वेला
मिलन की वेला
Dr.Pratibha Prakash
साँझ ढली पंछी चले,
साँझ ढली पंछी चले,
sushil sarna
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
"प्रेम की अनुभूति"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
Loading...