Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

बेटियाँ

खुशियाँ नहीँ मनाई जाती , क्यों बेटी जब जन्म है लेती ।
हर घर को खुशियों का खजाना ,जबकि अधिकतर बेटी देती ॥
ज्यों ज्यों बेटी बढ़ती जाती ,माँ की जिम्मेदारी लेती ।
हरेक पिता की लाडली बेटी ,पिता के दिल की धड़कन होती ॥
फ़िर भी ऐसा क्यों होता है , जनम पे उसके घर रोता है ।
मात पिता को बोझ बताये , उस बेटे पर घर खुश होता है ॥
क्यों बेटी के त्याग का जज़बा ,इस समाज को समझ ना आता ।
क्यों समाज घर की बेटी को ,इस धरती पर बोझ बताता ॥
घर घर में महिला ही केवल ,बेटी की दुश्मन होती है ।
कब समझेगी घर की दादी ,वो भी कभी बेटी होती है ॥

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिज़नोरी

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
*हम तो हम भी ना बन सके*
*हम तो हम भी ना बन सके*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
घर-घर तिरंगा
घर-घर तिरंगा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पदोन्नति
पदोन्नति
Dr. Kishan tandon kranti
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
Sanjay ' शून्य'
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कविता
कविता
Rambali Mishra
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
Neeraj Agarwal
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
पैगाम
पैगाम
Shashi kala vyas
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
पूर्वार्थ
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
नेता खाते हैं देशी घी
नेता खाते हैं देशी घी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
"प्रत्युत्तर"
*प्रणय प्रभात*
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
Loading...