Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2024 · 1 min read

I’m not proud

I’m not proud
I don’t know what I am
I’m not proud

I’m not wealthy
Yet I’m satisfied
I can feed the people
Giving them my own food

I’m not powerful
Yet I’m satisfied
I can help the people
Giving them my helping hand

I’m not any king
Yet I’m satisfied
I can win the people
Spreading love and blessings

I’m not Almighty
Yet I’m satisfied
I can do whatever like
Nothing is impossible in life

V9द चौहान

1 Like · 23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ध्रुव तारा
ध्रुव तारा
Bodhisatva kastooriya
*युद्ध*
*युद्ध*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच्ची प्रीत
सच्ची प्रीत
Dr. Upasana Pandey
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
सौरभ पाण्डेय
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Who Said It Was Simple?
Who Said It Was Simple?
R. H. SRIDEVI
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
बढ़े चलो ऐ नौजवान
बढ़े चलो ऐ नौजवान
नेताम आर सी
3426⚘ *पूर्णिका* ⚘
3426⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Sidhartha Mishra
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
*प्रणय प्रभात*
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...