Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

*बूढ़ा दरख्त गाँव का *

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *

सागर में जा कर
नदी का विलय होना
नदी की परिणीति है
अन्य जो कुछ है इससे विलग
सखी वो सब महज़
मानवीय सिर्फ़ सहानुभूति

ये शब्द सृजन तो माया है
पंचतत्व है यही अंततोगत्वा
भीषण सत्य है
सार्थक प्रतीति है

माटी में माटी से
मिलने की एक अजब
अनुभूति है या होती है
उम्र भर सब देखा हमने
निकटतम व्यवहार विकट
सहा प्रतिकार तूने भी और मैने भी
उम्रदराज दरख़्त मेरे गांव का
मुझको बुला रहा बौर आया था
भर भर के था मुस्कुरा रहा
लौंडे गांव के उसपे शौकिया
कुछ लिख गए थे खुरच खुरच
नाम अपनी अपनी प्रिया
के संग अमरत्व पाने को
खजुराहो सा बना
वो अब खिसिया रहा
सागर में जा कर
नदी का विलय होना
नदी की परिणीति होती है
अन्य जो कुछ है
सखी वो सब महज़
मानवीय सिर्फ़ सहानुभूति
😁😁😁👆

120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
Honesty ki very crucial step
Honesty ki very crucial step
Sakshi Tripathi
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बड़ी होती है
बड़ी होती है
sushil sarna
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
यह तो हम है जो कि, तारीफ तुम्हारी करते हैं
यह तो हम है जो कि, तारीफ तुम्हारी करते हैं
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Godambari Negi
2606.पूर्णिका
2606.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
नये गीत गायें
नये गीत गायें
Arti Bhadauria
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
*दुआओं का असर*
*दुआओं का असर*
Shashi kala vyas
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पूछो ज़रा दिल से
पूछो ज़रा दिल से
Surinder blackpen
जमाना खराब हैं....
जमाना खराब हैं....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...