Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

“बुलबुला”

ये मोहब्बत नहीं तो क्या है
उनका ये मुस्कुराना
दिल से ही पूछ लीजिए
हम क्यों तुम्हें बताएँ,
गुनाहों के साये में जो
ये जिन्दगी गुजरी है
रुकी रही आँखों में
बरसी ये फिर घटाएँ
खुद को ही मिटाकर
किसी की जिन्दगी बचा लें
आती है मेरे कानों में
अब भी किसी की सदाएँ
पानी का बुलबुला है
इंसान की ये जिन्दगानी
तरसी है इन्तजार की घड़ियाँ
अब दे भी दो दुआएँ।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति

1 Like · 1 Comment · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
"आत्मावलोकन"
Dr. Kishan tandon kranti
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2713.*पूर्णिका*
2713.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Jo mila  nahi  wo  bhi  theek  hai.., jo  hai  mil  gaya   w
Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w
Rekha Rajput
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
■ आज का चिंतन
■ आज का चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुकून
सुकून
Er. Sanjay Shrivastava
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आजकल गजब का खेल चल रहा है
आजकल गजब का खेल चल रहा है
Harminder Kaur
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
खोज करो तुम मन के अंदर
खोज करो तुम मन के अंदर
Buddha Prakash
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
मोदी जी
मोदी जी
Shivkumar Bilagrami
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
गीत
गीत
Shiva Awasthi
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
"आधी है चन्द्रमा रात आधी "
Pushpraj Anant
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
Loading...