Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 3 min read

बुढ्ढे का सावन

मौसम का बदला मिजाज
मिली तपन से निज़ात
आया मौसम बरसात।।
सावन में लग गयी आग काश
हम होते जवान।।

कभी हल्की फुहार कभी बौछार ही बौछार
चुहुँ ऒर हिरियाली का राज
सावन कि घटाओं में छुपा चाँद
मदमस्त जवाँ दिलों में प्यार कि
खुमार।।
सावन में लग गयी आग काश हम
होते जवान।।

कहते है दिल कभी बूढ़ा नहीं होता
बुजुर्गो के दिल में भी आने लगी
बचपन की याद बारिस का पानी
कागज कि नांव।।
सावन में लग गयी आग काश
हम होते जवान।।
बारिस में भीगना गॉव कि गलियों
में कीचड़ से लिपटे पाँव
खांसी छींक बुखार माँ बाप की डांट फटकार
बाग़ ,बगीचों का आम मस्ती का
बचपन बेफिक्री का नाम।।
सावन में लग गयी आग काश
हम होते जवान।।

बुंढीयाँ भी करती अपने बचपन
जवां दिनों कि याद
क्या हस्ती थी बारिस
में भीगा बदन
साँसों की गर्मी घूमते इर्द गिर्द मजनूं हजार ।।
सावन में लग गयी आग काश हम
भी होते जवान।।

बुधीयों का शौहर से गीले शिकवे लाख
सर्दी सताती कांपते जैसे
आम से लदी डाल
पके आम से पिलपिले तपिस से
लग जाती लू बुखार
जब बहती मस्त बसंती बयार मौसम
बदलने कि पड़ती तुम पर मार
हमारे बुढ़ऊ शौहर जवां जज्बे के
प्यार के खाब हज़ार।।
सावन में लग गयी आग काश
हम भी होते जवान।।
कौन कहता है दिल बूढ़ा नहीं होता शारीर ने साथ छोड़ा दिल बीमार
चीनी की बीमारी रक्तचाप
जंजाल जिंदगी खांसते दिन
रात डाबर का च्यवन प्रास झंडू का केशरी जीवन बेकार।।
सावन को लग गयी आग काश
हम भी होते जवान।।

बुड्डा सठिया गया सावन में लग
गयी आग वदन साँसों में गर्मी नही
जिंदगी में सावन दिल जलाये
आहे आये काश हम होते जवान।।
सावन में लग गयी आग काश हम
भी होते जवान।।

बीबी को देखते ही दम फुलता
सांसो धड़कन में जवाँ हुश्न याद
आती हो जाते जज्बाती
सांसो धड़कन कि चेतावनी
खबदार ।।
सावन में लग गयी आग काश हम
भी होते जवान।।
बुढ़ऊ हार नहीं मानते ताकत कि
जुगत लगाते काजू किसमिस बादाम अण्डा दूध मलाई खाते
हाज़मा दे देता जबाब ताकत
मिलती नहीं जाते रहते संडास।।

सावन में लग गयी आग बीबी
कि पड़ने लगी डांट।।

जब नौजवानो से हो जाती
मुलाक़ात मारते डिंग शुद्ध
देशी घी खा कर हुये जवान
तुम डालडा ,पिज्जा ,वर्गर वाले
क्या जानो जवानी क्या ?

जवाँ दिलों का देखते जब उन्मुक्त
प्यार अपनी जवां दिनों को
करते याद उन्ही दिनों के सावन
के ख़ाबों को जी लेते आज।।

आह भरते सावन में लग गयी
आग काश हम भी होते जवान।।

सावन में बुढ्ढा देवर मगर क्या
करे भाभियां बुड्डा तो नकली
पेवर देवर काम का न काज का
बेकार।।
तकदीर को कोसती भाभियां सावन में लग गयी आग सावन
हुआ बेकार।।
लाखो का सावन आय
जाय जवानी के दिन याद दिलाय
चला जाय
मोहब्बत तो दिये जैसी
जलते ही बुझ जाय
सावन भादों प्यार मोहब्बत कि
बरसात जिंदगी में जवां जज्बात
बुड्ढों के बस की नहीं बात।
सावन में लग गयी आग जिया
जलाये मन दरसाये याद आये
जवानी के सावन की रात।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखपुर उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
सदा बेड़ा होता गर्क
सदा बेड़ा होता गर्क
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरी चाहत रही..
मेरी चाहत रही..
हिमांशु Kulshrestha
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
मात्र मौन
मात्र मौन
Dr.Pratibha Prakash
#आंखें_खोलो_अभियान
#आंखें_खोलो_अभियान
*Author प्रणय प्रभात*
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
किस हक से जिंदा हुई
किस हक से जिंदा हुई
कवि दीपक बवेजा
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
नवयौवना
नवयौवना
लक्ष्मी सिंह
जन्म कुण्डली के अनुसार भूत प्रेत के अभिष्ट योग -ज्योतिषीय शोध लेख
जन्म कुण्डली के अनुसार भूत प्रेत के अभिष्ट योग -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पहले की भारतीय सेना
पहले की भारतीय सेना
Satish Srijan
कि मुझे सबसे बहुत दूर ले जाएगा,
कि मुझे सबसे बहुत दूर ले जाएगा,
Deepesh सहल
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
The life is too small to love you,
The life is too small to love you,
Sakshi Tripathi
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
अनिल अहिरवार"अबीर"
कहीं भी जाइए
कहीं भी जाइए
Ranjana Verma
*सुनिए बारिश का मधुर, बिखर रहा संगीत (कुंडलिया)*
*सुनिए बारिश का मधुर, बिखर रहा संगीत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में ईनाम नहीं स्थान बड़ा है नहीं तो वैसे नोबेल , रैमेन
जीवन में ईनाम नहीं स्थान बड़ा है नहीं तो वैसे नोबेल , रैमेन
Rj Anand Prajapati
कितनी भी हो खत्म हो
कितनी भी हो खत्म हो
Taj Mohammad
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
2927.*पूर्णिका*
2927.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
Loading...