Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

*बीमारी न छुपाओ*

रोग हो या बीमारी इसको ना छुपाओ।
छोटे से बड़ा हो जाता बाद में पछताओ।
बाद में पछताओ तुम जीवन को रोकर।
जीवन हमको जीना है अति खुश होकर।
बन जाता है नासूर एक छोटा सा घाव।
फिर लगाते फिरते हैं हम नए नए दांव।
लगाते नए-नए दांव पर कुछ हो न पाता।
करते हो तुम याद डॉक्टर पिता माता।
जाते डॉक्टर के पास डॉक्टर मांगे पैसे।
पैसे कहां से लाए जब हमारी हालत ऐसे।
मांगते हो उधार पर कोई दे नहीं पाता।
अब कहां हैं रिश्तेदार बहन व भ्राता।
आते हैं जब घर तब कुछ हो नहीं पाता।
तोड़ देते हैं उस समय अपने भी नाता।
करता है पिछले जीवन को याद अब।
हो गया इस जीवन में बर्बाद जब।
करें भी तो क्या करें? अब पड़ा है खाट।
गिन रहा है जीवन की अब अंतिम वाट।
छोड़ चला हमेशा के लिए कुछ हो नहीं पाया।
बीमारी छुपाने के कारण कर गया किनारा।
सावधान रहो बीमारी कभी ना छुपाओ।
खुद मानो दूसरों को भी यह बतलाओ।
खुद बचो दूसरों को भी तुम बचाओ।
दुष्यंत कुमार के सार को तुम अपनाओ।।

Language: Hindi
5 Likes · 251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
त्योहार का आनंद
त्योहार का आनंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अन्हारक दीप
अन्हारक दीप
Acharya Rama Nand Mandal
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जय लगन कुमार हैप्पी
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
gurudeenverma198
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
रमेशराज के विरोधरस दोहे
रमेशराज के विरोधरस दोहे
कवि रमेशराज
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
बनारस का घाट
बनारस का घाट
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
Rituraj shivem verma
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
Shivkumar Bilagrami
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उन्हें हद पसन्द थीं
उन्हें हद पसन्द थीं
हिमांशु Kulshrestha
नफ़रत के सौदागर
नफ़रत के सौदागर
Shekhar Chandra Mitra
डर  ....
डर ....
sushil sarna
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
शेखर सिंह
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
Drjavedkhan
एक तरफ चाचा
एक तरफ चाचा
*Author प्रणय प्रभात*
"बताया नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...