Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

बारिश

बारिश का
रूप बिखरा
बारिश तो
गांव भर को
सामाजिक
बनाती थी।
बारिश तो
झूलों को
संगीतमय
बनाती थी
बारिश अब
तबाही का
मंजर
दिखाती है
जल जंगल जमीन
नही
अब केवल तबाही है।

डा. पूनम पाडे

Language: Hindi
2 Likes · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
गुरूर  ना  करो  ऐ  साहिब
गुरूर ना करो ऐ साहिब
Neelofar Khan
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
3379⚘ *पूर्णिका* ⚘
3379⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Still I Rise!
Still I Rise!
R. H. SRIDEVI
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
Dr. Man Mohan Krishna
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
समय
समय
Swami Ganganiya
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
Suryakant Dwivedi
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
sushil yadav
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
Ravi Prakash
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
लौटेगी ना फिर कभी,
लौटेगी ना फिर कभी,
sushil sarna
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नकारात्मकता फैलानी हो तो
नकारात्मकता फैलानी हो तो
*प्रणय प्रभात*
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
कानून अंधा है
कानून अंधा है
Indu Singh
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
Loading...