Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

बारिश की पहली बून्द

बारिश की
पहली बून्द की तरह
तृप्त कर जाता है
मेरे तन-मन को
तुम्हारा प्यार

फिर
ओढ़ कर
धानी चुनरिया
खुशियों की
लहलहा उठती हूँ मैं

**************************

स्वाति की एक बून्द
बरस कर
तृप्त कर जाती है
पपीहे की प्यास

तेरे प्यार की चाहत
अक्सर
मुझे
पपीहा बना देती है

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’ (भोपाल)

Language: Hindi
273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
पूर्वार्थ
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
Paras Nath Jha
संस्कारों के बीज
संस्कारों के बीज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"छछून्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
Who's Abhishek yadav bojha
Who's Abhishek yadav bojha
Abhishek Yadav
विश्वगुरु
विश्वगुरु
Shekhar Chandra Mitra
याद में
याद में
sushil sarna
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
सफर में चाहते खुशियॉं, तो ले सामान कम निकलो(मुक्तक)
सफर में चाहते खुशियॉं, तो ले सामान कम निकलो(मुक्तक)
Ravi Prakash
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
वह
वह
Lalit Singh thakur
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
कवि दीपक बवेजा
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
तुमने दिल का कहां
तुमने दिल का कहां
Dr fauzia Naseem shad
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
2845.*पूर्णिका*
2845.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
#कालचक्र
#कालचक्र
*Author प्रणय प्रभात*
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
Shweta Soni
मित्रता क्या है?
मित्रता क्या है?
Vandna Thakur
Loading...