Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2023 · 1 min read

बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।

बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
वशीभूत प्रतिशोध के, करे अहित नर आप।।

क्षणभर का आवेग यह, देर तलक दे शोक।
भाव प्रबल प्रतिशोध का, किसी तरह भी रोक।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
1 Like · 533 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हार नहीं, हौसले की जीत
हार नहीं, हौसले की जीत
पूर्वार्थ
ऐ ज़िंदगी।
ऐ ज़िंदगी।
Taj Mohammad
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
हरिगीतिका छंद विधान सउदाहरण ( श्रीगातिका)
हरिगीतिका छंद विधान सउदाहरण ( श्रीगातिका)
Subhash Singhai
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चुभे  खार  सोना  गँवारा किया
चुभे खार सोना गँवारा किया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
।। आशा और आकांक्षा ।।
।। आशा और आकांक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
*हम तो हम भी ना बन सके*
*हम तो हम भी ना बन सके*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
#नैमिषारण्य_यात्रा
#नैमिषारण्य_यात्रा
Ravi Prakash
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
■ आज की सलाह...
■ आज की सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...