Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2023 · 1 min read

बात जो दिल में है

बात जो दिल में है तुमको वो बतायें कैसे
दिल की सरहद से ज़बाँ तक उसे लायें कैसे

एक तस्वीर जो इस दिल ने छुपा रक्खी है
चीर कर दिल को वो तस्वीर दिखायें कैसे

बड़ी हसरत से इन आँखों ने तेरे ख़्वाब भरे
हम इन आँखों से तेरे ख़्वाब हटायें कैसे

सभी नफ़रत के तरफ़दार हैं महफ़िल में तेरी
हम मोहब्बत की कोई बात उठायें कैसे

एक बेनाम सा रिश्ता है अभी तक तुमसे
इस हक़ीक़त को छुपायें तो छुपायें कैसे

..शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
3 Likes · 398 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The life is too small to love you,
The life is too small to love you,
Sakshi Tripathi
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
*Author प्रणय प्रभात*
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
Vandna Thakur
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
अकेलापन
अकेलापन
भरत कुमार सोलंकी
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
Vishal babu (vishu)
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
निकलती हैं तदबीरें
निकलती हैं तदबीरें
Dr fauzia Naseem shad
धर्मगुरु और राजनेता
धर्मगुरु और राजनेता
Shekhar Chandra Mitra
मन कहता है
मन कहता है
Seema gupta,Alwar
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
Ravi Prakash
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता
Mukesh Kumar Sonkar
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
Shweta Soni
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Sukoon
Growth requires vulnerability.
Growth requires vulnerability.
पूर्वार्थ
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2401.पूर्णिका
2401.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...