Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

बसंत का आगम क्या कहिए…

बसंत का आगम क्या कहिए,
दिन चमचम रात उजाली है।
नत यौवन-भार से आज धरा,
हुई मद में गजब मतवाली है।

घाम ने अंगों को झुलसाया।
शीत ने कैसा कहर बरपाया।
घनन-घनन जब बदरा बरसे,
नैनों में कजरा टिक न पाया।
बीती अब सब जलन-गलन,
मुख पर मुस्कान निराली है।

पीत परिधान में सज- धज,
दूल्हा बन ऋतुराज आया।
सकुचाई प्रकृति लाज-भरी,
तन- मन में मधुमास छाया।
सजी सेज पर बैठी प्रियतमा,
नयनों में लाज की लाली है।

बंद कलियों ने आँखें खोलीं।
पंचम सुर में कोयल बोली।
पुष्पित पराग मधु रस पीने,
निकल चली भ्रमरों की टोली।
देख रुत अभिसार की आई,
प्रफुल्लित डाली-डाली है।

पतझर में पात झरे जिसके,
उस तरु पर भी अब फूल खिले !
ए कामसखा, कुछ कह तो,
कौन मंत्र अनूठे तूने पढ़े ?
हमने भी मन में सपने पाले,
फिर से नेह-आस लगा ली है।

मथ रहा है मानव-मन को,
पुष्प-वाण से आज मन्मथ।
प्रिय के आगोश में लिपटी,
उन्मत्त प्रिया कामकेलि रत।
दूर कहीं पर एक विरहन,
बस टूट बिखरने वाली है ।

© डॉ.सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद (उ.प्र.)

Language: Hindi
2 Likes · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
Rj Anand Prajapati
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
ruby kumari
■ हाइकू पर हाइकू।।
■ हाइकू पर हाइकू।।
*प्रणय प्रभात*
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
Dr MusafiR BaithA
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
Dr. Man Mohan Krishna
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
तंग जिंदगी
तंग जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
Lucky Number Seven!
Lucky Number Seven!
R. H. SRIDEVI
My City
My City
Aman Kumar Holy
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
Neelam Sharma
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
डगर जिंदगी की
डगर जिंदगी की
Monika Yadav (Rachina)
सब की नकल की जा सकती है,
सब की नकल की जा सकती है,
Shubham Pandey (S P)
गुरु का महत्व
गुरु का महत्व
Indu Singh
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
24/246. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/246. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
चांद पे हमको
चांद पे हमको
Dr fauzia Naseem shad
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
माँ
माँ
संजय कुमार संजू
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
Loading...