Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 1 min read

“बलवान”

“बलवान”
बहुत बलवान होता
स्वार्थ
वरना ना तो कभी
मित्र की मित्र से ठनते,
और ना ही कभी
कोई शत्रु मित्र बनते।

8 Likes · 4 Comments · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
Mukul Koushik
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
बीमारी सबसे बुरी , हर लेती है प्राण (कुंडलिया)
Ravi Prakash
औरत तेरी गाथा
औरत तेरी गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
Birthday wish
Birthday wish
Ankita Patel
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
पारो
पारो
Acharya Rama Nand Mandal
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-260💐
💐प्रेम कौतुक-260💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मेरी प्यारी कविता
मेरी प्यारी कविता
Ms.Ankit Halke jha
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
वीणा का तार 'मध्यम मार्ग '
वीणा का तार 'मध्यम मार्ग '
Buddha Prakash
चलना सिखाया आपने
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
*Author प्रणय प्रभात*
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
3279.*पूर्णिका*
3279.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
कूड़े के ढेर में भी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
Loading...