Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2023 · 1 min read

बनारस की ढलती शाम,

बनारस की ढलती शाम,
स्नान का तीर्थ, ध्यान का अराम।
गंगा के किनारे जहाँ प्रेम बसे,
भव्य हर घटा, पवित्रता विशेष।

मंदिरों की छाया, गलियों का सौंदर्य,
मन को भावुक कर देता हर वाक्य।
सुंदर सा वातावरण, धर्म का आदान-प्रदान,
हर कोने में बसी धरोहरों की मिठास।

प्यारी बनारस की ढलती शाम,
वहाँ की मिट्टी में बसी है प्रेम की बात।
गंगा आरती का दीपक, मन को जलाए,
भगवान के नाम से हर दर्द मिटाए।

सजीव बनारस की रौशनी,
हर मन को बाँध लेती वो अपनी जोरों में।
इस शहर की कहानी, वो अनमोल हिरदय की धरोहर,
जिसमें है भगवान की शान, प्रेम की बहार।

336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
Dont worry
Dont worry
*Author प्रणय प्रभात*
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
किशोरावस्था : एक चिंतन
किशोरावस्था : एक चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
युवा अंगार
युवा अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
"आशा" के कवित्त"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
Vishal babu (vishu)
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
करती रही बातें
करती रही बातें
sushil sarna
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
मुझे तुम
मुझे तुम
Dr fauzia Naseem shad
*पयसी प्रवक्ता*
*पयसी प्रवक्ता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दी दोहा -जगत
हिन्दी दोहा -जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"बेरंग शाम का नया सपना" (A New Dream on a Colorless Evening)
Sidhartha Mishra
थकान...!!
थकान...!!
Ravi Betulwala
Loading...