Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

“बदल रही है औरत”

“बदल रही है औरत”
बदल रही है औरत
देश, काल, हालात के हिसाब से,
सीख रही है वो
अतीत के आईने को देखकर
अपने आज और समाज से।

1 Like · 1 Comment · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
परमूल्यांकन की न हो
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
..
..
*प्रणय प्रभात*
गुनाह लगता है किसी और को देखना
गुनाह लगता है किसी और को देखना
Trishika S Dhara
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
कलियुग की सीता
कलियुग की सीता
Sonam Puneet Dubey
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आप नौसेखिए ही रहेंगे
आप नौसेखिए ही रहेंगे
Lakhan Yadav
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सूली का दर्द बेहतर
सूली का दर्द बेहतर
Atul "Krishn"
हृदय परिवर्तन
हृदय परिवर्तन
Awadhesh Singh
कम से कम..
कम से कम..
हिमांशु Kulshrestha
अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
इश्क़ एक सबब था मेरी ज़िन्दगी मे,
इश्क़ एक सबब था मेरी ज़िन्दगी मे,
पूर्वार्थ
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
Rj Anand Prajapati
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
अजहर अली (An Explorer of Life)
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
इस सियासत की अगर मुझको अक्ल आ जाए
इस सियासत की अगर मुझको अक्ल आ जाए
Shweta Soni
नज़्म - झरोखे से आवाज
नज़्म - झरोखे से आवाज
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...