Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 2 min read

बदल जाओ या बदलना सीखो

बदल जाओ या बदलना सिखो –

बदल जाओ या बदलना सीखो
मंजिल से पहले ना रुकना सीखो।।

औकात खुद का जानना सीखो औकात मेहनत की मस्ती है ईमानदारी का ईमान कर्म पूजा सिंद्धांत पर चलना सीखो।।

खुद पे भरोसे कि दौलत दुस्साहस नहीं साहस का सोपान बनाना सिखो।।

शब्द कर्म में भेद विभेद नहीं
कथनी करनी में अंतर ना हो
वचन निभाना सिखों दिल दिमाग संतुलित संयमित क्रोध द्वेष को त्याग सीखो।।

आचार व्यवहार आचरण का
आदर्श आधार बनाना सीखो।।

तजुर्बा तालीम हथियार अहम स्व का त्याग औकात बनाना सीखो।।

मकसद ना हो खुदगर्जी मकसद ना हो मतलब स्वार्थ समय समाज राष्ट्र जिससे पहचान मकसद में हो साथ।।

मकसद पर ध्यान लगाना सीखो
मकसद औकात हो बेखौफ बेलौश बेबाक लम्हा लम्हा मकसद और जीवन जीना सीखो।।

जिंन्दगी के दिन चार दो रात के अंधेरो के दो सुबह नए शौर्य सूर्य
के साथ दुनियां का नव सूर्योदय
विश्वाश आश बनाना सीखो।।

वक्त की कीमत वक्त बदलना
सीखो ना हो बोझ समर्थ सोच
बनाना सीखो ।।

सयम संकल्प का कदम कदम विकल्प नहीं कोईं संकल्पों की यज्ञ आहुति करना सीखो।।

हुजूम में भी तन्हा एक चिराग
हुजूम की कारवाँ मंज़िल का
दिया चिराग मशाल सा जलना सीखो।।

एकला चलों कारवाँ के बागवाँ
बनना सीखो।।

ईश्वर अल्ला गुरु जीजस , पैगम्बर तुझमे तेरे अंदर खुद में इनको खोजो इनमे ही इनसे ही दुनियां देखो ।।

जख्म दर्द हो चाहे जितने
दुनियां के दर्दे गम जख्म
का मरहम बनना सीखो।।

ताकत का मतलब जानो
ताकत का सदुपयोग करना
सीखो मौका धोखा का फर्क समझना सीखो ।।

गुरुर नहीं जज्बे का जूनून कुछ
कर गुजरने का सुरूर वर्तमान
के कदमो से प्रेरक इतिहास
बनाना सीखो।।

जिंदगी रहम नहीं रहमत का रहीम करीम सा दुनियां में
जीना सीखो।।

चाहत जो भी हासिल कर पाओगे
अवनि के अवतार इंसान तुम
सिद्धार्थ से बुद्ध का सत्यार्थ तुम
प्रमाणिकता प्रमाण तुम ।।

पुरुष पराक्रम का परिधान धारण
करना सिखों ,धुँआ नहीं लपटो जैसा जलना सीखो।।

तुफानो सा चलना होगा
किस्मत की अनचाही लकीरो
मिटाना होगा तेरी आहट दुनियां
नई जिंदगी जमाने का बयां अन्दाज़ करना सीखो।।

नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखपुर उतर प्रदेश।।

Language: Hindi
1 Like · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
Vicky Purohit
फ़ितरत का रहस्य
फ़ितरत का रहस्य
Buddha Prakash
3263.*पूर्णिका*
3263.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ दोमुंहा-सांप।।
■ दोमुंहा-सांप।।
*Author प्रणय प्रभात*
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
Kishore Nigam
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
सत्य कुमार प्रेमी
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
Yogendra Chaturwedi
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
उम्मीदें ज़िंदगी की
उम्मीदें ज़िंदगी की
Dr fauzia Naseem shad
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
Er. Sanjay Shrivastava
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खुद्दारी ( लघुकथा)
खुद्दारी ( लघुकथा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
"दहलीज"
Ekta chitrangini
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
Loading...