Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2022 · 1 min read

बदलाव

तेरे शहर में कबूतरों को कोई कोना नहीं नसीब,
हमारे गांव आये मुसाफ़िर को भी रूक के जाना हैं।

ख़ुशी में सब मिल के हंसते हैं गमों में साथ रोते हैं,
कोई भी मर अगर जाये बिना तआलुक के जाना है।

महल मीनार बना सकते थे मगर वो जानते थे ये,
कि तिनका साथ नहीं जाना बिना संदूक जाना है।

अदब कुछ यूं सिखाती थी पुरानी चोखटें हमको,
नज़र ऊंची रखो बेशक मगर अंदर झुक के जाना है।

करोड़ों की ये दुनियां ‘शक्ति’ हजारों रोज है मरते,
मोल अपना बढ़ा प्यारे क्या बिना पहचान जाना है।

✍️ दशरथ रांकावत ‘शक्ति’

1 Like · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पलकों में शबाब रखता हूँ।
पलकों में शबाब रखता हूँ।
sushil sarna
हम हमेशा साथ रहेंगे
हम हमेशा साथ रहेंगे
Lovi Mishra
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Shyam Sundar Subramanian
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
Taj Mohammad
फूलो की सीख !!
फूलो की सीख !!
Rachana
■ जानवर कहीं के...!!
■ जानवर कहीं के...!!
*प्रणय प्रभात*
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
VINOD CHAUHAN
कल की भाग दौड़ में....!
कल की भाग दौड़ में....!
VEDANTA PATEL
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Never settle for less than you deserve.
Never settle for less than you deserve.
पूर्वार्थ
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
Dr Archana Gupta
2602.पूर्णिका
2602.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
"शतरंज के मोहरे"
Dr. Kishan tandon kranti
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
नज्म- नजर मिला
नज्म- नजर मिला
Awadhesh Singh
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
Manisha Manjari
गुमनाम ज़िन्दगी
गुमनाम ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
पिताश्री
पिताश्री
Bodhisatva kastooriya
सावन आज फिर उमड़ आया है,
सावन आज फिर उमड़ आया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
Vishal babu (vishu)
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
जिसकी भी आप तलाश मे हैं, वह आपके अन्दर ही है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
भाई
भाई
Kanchan verma
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
Raju Gajbhiye
Loading...