Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

बच्चे

वे दोनों बच्चे थे
एक आइसक्रीम बेच रहा था
दूसरा आइसक्रीम खरीद रहा था
एक पैसे दे रहा था
दूसरा पैसे ले रहा था
एक के चेहरे पर
मुस्कान थी, मस्ती थी
बेफिक्री थी, चंचलता थी
दूसरे के चेहरे पर
दर्द था, पीड़ा थी
गम्भीरता थी, खामोशी थी
एक चेहरा चमक रहा था
पैसे की चमक से
दूसरे का बचपन झुलस रहा था
गरीबी की धूप में
फिर भी
दोनों अपनी – अपनी जगह
ठीक थे, मासूम थे
दोनों ही बच्चे थे।

वर्ष :- २०१३

Language: Hindi
39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
Shweta Soni
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
Ram Krishan Rastogi
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
..........अकेला ही.......
..........अकेला ही.......
Naushaba Suriya
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमारे ख्याब
हमारे ख्याब
Aisha Mohan
हम सुख़न गाते रहेंगे...
हम सुख़न गाते रहेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
घर-घर तिरंगा
घर-घर तिरंगा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
अन्याय होता है तो
अन्याय होता है तो
Sonam Puneet Dubey
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
पूर्वार्थ
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कठिन परीक्षा
कठिन परीक्षा
surenderpal vaidya
#कविता
#कविता
*प्रणय प्रभात*
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रकाश पर्व
प्रकाश पर्व
Shashi kala vyas
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...