Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

बचपन

निश्छल मन भोली बातें और आकर्षण चमत्कारी
हर मां अपने बच्चों के ऐसे बचपन पर जाती वारी
ओम दुख भूल जाती माँ सुन बच्चों की बातें प्यारी
कपट,पाखंड, झूठ, सुख-दुःख से दूर दुनिया न्यारी

ओम प्रकाश भारती ओम्
बालाघाट , मध्य प्रदेश

Language: Hindi
116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओमप्रकाश भारती *ओम्*
View all
You may also like:
जिंदगी झंड है,
जिंदगी झंड है,
कार्तिक नितिन शर्मा
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
जगदीश शर्मा सहज
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
Dr Mukesh 'Aseemit'
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
Ranjeet kumar patre
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
Kshma Urmila
,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
When you learn to view life
When you learn to view life
पूर्वार्थ
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक तरफ तो तुम
एक तरफ तो तुम
Dr Manju Saini
😊आज का दोहा😊
😊आज का दोहा😊
*प्रणय प्रभात*
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
Shweta Soni
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
" जलचर प्राणी "
Dr Meenu Poonia
सच
सच
Neeraj Agarwal
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
Dr. Upasana Pandey
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
Phool gufran
"विश्व हिन्दी दिवस"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ वृक्ष लगाओ जी..
आओ वृक्ष लगाओ जी..
Seema Garg
Loading...