Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में

बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
कैसे मीन बचे बेचारी,गंदे इस परिवेश में
कहते कुछ और करते कुछ हैं, कोई धरम ईमान नहीं
अंदर कुछ और बाहर कुछ है,ये साधारण इंसान नहीं
राजनीति के कीड़ों की, होती कोई जवान नहीं
वेमतलब की वयानबाजी में,इनका कोई जवाब नहीं
वोट के खातिर राजनीति, करते हैं वे देश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
मुख पर है जनता की सेवा, करते सेवा का करम नहीं
खाते हैं पैसे की मेवा, इन्हें जरा भी शरम नहीं
मरते दम तक पद पर रहते, मरने पर अवशेष में
है पूरा तालाब ही गंदा राजनीति का देश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 352 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
धर्मांध
धर्मांध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
यह ज़िंदगी है आपकी
यह ज़िंदगी है आपकी
Dr fauzia Naseem shad
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
*लहरा रहा तिरंगा प्यारा (बाल गीत)*
*लहरा रहा तिरंगा प्यारा (बाल गीत)*
Ravi Prakash
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
Rituraj shivem verma
साक्षात्कार स्वयं का
साक्षात्कार स्वयं का
Pratibha Pandey
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*Deep Sleep*
*Deep Sleep*
Poonam Matia
शायद ...
शायद ...
हिमांशु Kulshrestha
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2360.पूर्णिका
2360.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
घर छूटा तो बाकी के असबाब भी लेकर क्या करती
Shweta Soni
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
Loading...