Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

बख्श मुझको रहमत वो अंदाज मिल जाए

पढ़े जो सभी शौंक से अल्फाज़ मिल जाए
सुनें जो हर कोई गौर से आवाज मिल जाए
आता नहीं मुझे यूँ रूठना, मनाना मेरे खुदा
बख्श मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
आता नहीं मुझे रुठना……………

जाने क्या-क्या दिल में था बयां नहीं किया
आई जो बात लब तक दिल में छुपा लिया
डरता था मेरी बात को तवज्जो न दे कोई
ख्वाहिश रही हरदम ये हमराज मिल जाए
आता नहीं मुझे रुठना…………….

देखा कभी जो ख्वाब तो दिल मुस्कुरा देता
टूटा कभी जो ख्वाब उसे हँसकर भुला देता
धुन में रहा मैं मग्न मगर वो धुन नहीं मिली
गुनगुनाता ही रहा कहीं पर साज़ मिल जाए
आता नहीं मुझे रुठना…………….

एक खेल मेरे साथ है ये मुकद्दर ने भी खेला
निभाई मैनें बहूतों से पर मैं अब भी अकेला
“V9द” मेरे दिल में रही है एक आरजू यही
लिखूँ मैं भी गजल अगर आगाज़ मिल जाए
आता नहीं मुझे रूठना………….
बख्श मुझको रहमत…………..

स्वरचित
V9द चौहान

2 Likes · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
आदत से मजबूर
आदत से मजबूर
Surinder blackpen
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
Rj Anand Prajapati
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
मजदूर दिवस पर विशेष
मजदूर दिवस पर विशेष
Harminder Kaur
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हमें ईश्वर की सदैव स्तुति करनी चाहिए, ना की प्रार्थना
हमें ईश्वर की सदैव स्तुति करनी चाहिए, ना की प्रार्थना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मिला है जब से साथ तुम्हारा
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
Sanjay ' शून्य'
#प्रसंगवश...
#प्रसंगवश...
*प्रणय प्रभात*
प्रेम की नाव
प्रेम की नाव
Dr.Priya Soni Khare
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
*पाए हर युग में गए, गैलीलियो महान (कुंडलिया)*
*पाए हर युग में गए, गैलीलियो महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
लम्हों की तितलियाँ
लम्हों की तितलियाँ
Karishma Shah
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नयी शुरूआत
नयी शुरूआत
Dr fauzia Naseem shad
सफल
सफल
Paras Nath Jha
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
parvez khan
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"चढ़ती उमर"
Dr. Kishan tandon kranti
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...