Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

फूल कुदरत का उपहार

फूल है प्रकृति का सबसे सुंदर उपहार
फूल है उपवन का आकर्षक सिंगार ।
फूल ही दुनिया में सुंदर रंग भरते है,
और उसे इतना आकर्षक करते है।
एक दिन, दो दिन जितना भी जीवन है
फूल उस जीवन में जी भर कर खिलते है ।
फूलों और इंसानों का रिश्ता तब से हैं,
सृष्टि मे मानव जब हुआ जरा समझदार ।

हर अवसर में फूल मौजूद होते है।
खुशी का खजाना है इसका सबूत देते है
फूल कुदरत का दिया खूबसूरत तोहफा है।
फूल कण -कण मे सृष्टि की शोभा है ।
हर कोई फूल की तारीफ करता है,
कितना भी देखो मन नही भरताहै।
कांटो मे रहकर भी मुस्कान मत त्यागो
फूल हमे सिखाते है ऐसा ही व्यवहार।

एक दो गमले तो लगाए जा सकते है,
फूल कही पर भी उगाए जा सकते है,
आक्सीजन हरियाली सुंदरता सब देते ।
तितली ,भौरे और हवा सुगंधित करते ।
अगर कोई खिड़की है रोशनी देने वाली ,
कमरे मे भी फूल खिलाये जा सकते है ।
संडे या मंडे हो गर्मी हो सर्दी हो
फूल हर पल को कर देते त्यौहार।

3 Likes · 1 Comment · 520 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Harish Chandra Pande
View all
You may also like:
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
चांदनी रात
चांदनी रात
Mahender Singh
फकत है तमन्ना इतनी।
फकत है तमन्ना इतनी।
Taj Mohammad
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
लक्ष्मी सिंह
अपना दिल
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीना सिखा दिया
जीना सिखा दिया
Basant Bhagawan Roy
माटी तेल कपास की...
माटी तेल कपास की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
Chahat ka samandar ham bhi rakhte h ,
Chahat ka samandar ham bhi rakhte h ,
Sakshi Tripathi
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
🙅विषम-विधान🙅
🙅विषम-विधान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
श्याम सिंह बिष्ट
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
अनिल कुमार
किरदार
किरदार
Surinder blackpen
किसान,जवान और पहलवान
किसान,जवान और पहलवान
Aman Kumar Holy
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
ग़ुमनाम जिंदगी
ग़ुमनाम जिंदगी
Awadhesh Kumar Singh
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
Loading...