Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

फितरत

मंजिल तो मेरी तय है।
अब रास्तों की तलाश है॥

मेरे संस्कार का स्वभिमान
मेरी रग – रग में है बहता,
चाटुकारों की महफिल में
कोई पसंद नहीं है करता,
तारीफ करे या शिकवा
चरित्र मेरा अटल है,
मंजिल तो मेरी तय है।
अब रास्तों की तलाश है॥

ख्वाहिश मेरा है इतना
निराश्रितों के काम आउँ,
मजलिस में छाये रौनक
चाहे मैं मर क्यूँ न जाउँ,
रहे अभिमान आखिरी तक
फितरत मेरी बुलंद है,
मंजिल तो मेरी तय है।
अब रास्तों की तलाश है॥

जीवन के हर मुश्किलों में
मेरे मलिक ख्याल रखना,
अहंकार मुझमें न आए
इस चमक से दुर रखना,
तन्हाईयों के आलम में
मेरी अंदाज पुरानी है,
मंजिल तो मेरी तय है।
अब रास्तों की तलाश है॥

4 Likes · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Awadhesh Kumar Singh
View all
You may also like:
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
■आज पता चला■
■आज पता चला■
*Author प्रणय प्रभात*
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*यह दौर गजब का है*
*यह दौर गजब का है*
Harminder Kaur
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन पथ एक नैय्या है,
जीवन पथ एक नैय्या है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
gurudeenverma198
"महान ज्योतिबा"
Dr. Kishan tandon kranti
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
Er. Sanjay Shrivastava
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
Dr MusafiR BaithA
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
*मोती (बाल कविता)*
*मोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
bharat gehlot
सफर में महोब्बत
सफर में महोब्बत
Anil chobisa
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
Loading...