Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

फितरत न कभी सीखा

पिछली सदी का शख्स मैं
शराफत में जिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

सबको गले लगाते,
वाजिब हर बात मानी।
फितरत न कभी सीखा,
सादी थी जिंदगानी।
हो खास या मामूली,
सब साथ लिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

लोगों में थी मुहब्बत,
मिला करते सुबह शाम।
मेरे दौर में तो होते,
जुबाँ से सारे काम।
गैरों के खातिर भी मैं,
कई गम को पिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

घिर गए अब तो सारे,
हर जगह है मशीन।
न गीत ग़ज़ल महफ़िल
न संग कोई हसीन।
लम्हों में लगा पेंवन्द
किनारों को सिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

है दौर आज का जो,
सृजन को नहीं भाता।
अपने बने पराये,
कोई पास नहीं आता।
वो भी दिखाते फितरत,
जिन्हें जान दिया हूँ।
दिल से निभाया मैंने
वायदा जो किया हूँ।

2 Likes · 2 Comments · 219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
"रिश्ते टूट जाते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं गलत नहीं हूँ
मैं गलत नहीं हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
gurudeenverma198
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
💐प्रेम कौतुक-234💐
💐प्रेम कौतुक-234💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मिट्टी के परिधान सब,
मिट्टी के परिधान सब,
sushil sarna
*
*"रक्षाबन्धन"* *"काँच की चूड़ियाँ"*
Radhakishan R. Mundhra
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2833. *पूर्णिका*
2833. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
"शाम-सवेरे मंदिर जाना, दीप जला शीश झुकाना।
आर.एस. 'प्रीतम'
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
"लफ़्ज़ भी आन बान होते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
भाई हो तो कृष्णा जैसा
भाई हो तो कृष्णा जैसा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
Loading...