Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी

वह घोषित रूप से
प्रेम पत्र बचाने के एजेंडे पर है
प्रेम पत्र बचाना जबकि
उसका ध्येय हो नहीं सकता कतई
उसके पुरखों ने कब की है
प्रेम पत्र की रखवारी
कब बचाया है प्रेम
प्रेम पत्र से उसने
कब रखा है प्रेम का वास्ता

उधार खाते के प्रेम पर
अक्षत प्रेमपत्र सिरजन सम्भव है क्या
बोल बोल
अरे दिल खोल बोल
दिल के अपने कपट कपाट
खोल बोल
ऐ प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी?

प्रेम को जो खाते आया है
प्रेम को जो घटाते आया है
प्रेम की जगह जो
जात का ऊँच नीच घटाते आया है
वह क्या बचाएगा प्रेम पत्र!
वह बचाएगा क्या प्रेम पत्र?
वह क्यों बचाएगा प्रेम पत्र?

Language: Hindi
1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
*प्रणय प्रभात*
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
डॉ.सीमा अग्रवाल
भाग्य निर्माता
भाग्य निर्माता
Shashi Mahajan
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ,  तो इस कविता के भावार
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ, तो इस कविता के भावार
Sukoon
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
सहधर्मनी
सहधर्मनी
Bodhisatva kastooriya
हर बला से दूर रखता,
हर बला से दूर रखता,
Satish Srijan
*लब मय से भरे मदहोश है*
*लब मय से भरे मदहोश है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
पूर्वार्थ
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
“ सर्पराज ” सूबेदार छुछुंदर से नाराज “( व्यंगयात्मक अभिव्यक्ति )
“ सर्पराज ” सूबेदार छुछुंदर से नाराज “( व्यंगयात्मक अभिव्यक्ति )
DrLakshman Jha Parimal
.........?
.........?
शेखर सिंह
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
मन चाहे कुछ कहना .. .. !!
मन चाहे कुछ कहना .. .. !!
Kanchan Khanna
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अधिकतर प्रेम-सम्बन्धों में परिचय, रिश्तों और उम्मीदों का बोझ
अधिकतर प्रेम-सम्बन्धों में परिचय, रिश्तों और उम्मीदों का बोझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
Sandeep Pande
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
*थोड़ा-थोड़ा दाग लगा है, सब की चुनरी में (हिंदी गजल)
*थोड़ा-थोड़ा दाग लगा है, सब की चुनरी में (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
"बुलबुला"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...