Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

प्रवासी चाँद

, प्रवासी चाँद
—————

ना जाने कब मन मचलेगा ,
पूछ रहा कवि प्रेयसि से !
पूछ रहा है खुद से भी वह-
क्या बोलेगा प्रेयसि — से !!

मन में बहुत ज्वार उठते हैं –
किसे नकारे किसे दुलारे !
ज्वार कौन सा प्रेयसि तेरा –
पूछ रहा प्रिय प्रेयसि से !!

रात दिवस का भेद नदारद ,
दिन है या है रात सनम !
सोना है या अब जगना है –
पूछ रहा प्रिय प्रेयसि से !!

चाँद प्रवासी हुआ चकोरा,
चली चकोरी मिलने हेतु !
मिल पायेगी चकवी प्रिय से-
पूछ रहा प्रिय प्रेयसि से !!

मन में क्या है आज बता दो,
ढुल-मुल उत्तर मत देना !
प्राणों से भी क्या मँहगी है –
पूछ रहा प्रिय प्रेयसि से !!

सदा वक्त पर नहीं छोड़ते ,
जिन को चाहत होती है !
आओ मिलो वक्त,वो ही है-
सुझा रहा प्रिय प्रेयसि से !!
———————————–
मौलिक-चिंतन
स्वरूप दिनकर, आगरा

———————————–

81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ramswaroop Dinkar
View all
You may also like:
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
हरवंश हृदय
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
Phool gufran
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
VINOD CHAUHAN
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Kumud Srivastava
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
2613.पूर्णिका
2613.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
लोकतांत्रिक मूल्य एवं संवैधानिक अधिकार
लोकतांत्रिक मूल्य एवं संवैधानिक अधिकार
Shyam Sundar Subramanian
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
बगुले तटिनी तीर से,
बगुले तटिनी तीर से,
sushil sarna
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
Lokesh Sharma
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
प्यार का गीत
प्यार का गीत
Neelam Sharma
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जुदाई
जुदाई
Davina Amar Thakral
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
सत्य कुमार प्रेमी
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चाहता हूं
चाहता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Surya Barman
"संकल्प"
Dr. Kishan tandon kranti
बदल डाला मुझको
बदल डाला मुझको
Dr fauzia Naseem shad
*आई वर्षा खिल उठा ,धरती का हर अंग(कुंडलिया)*
*आई वर्षा खिल उठा ,धरती का हर अंग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
Loading...