Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

प्रयास (कविता)

जाने कितनी बार,
प्रयास किया मैनेें।
की मैं अपने जीवन को,
अपनी मुठ्ठी में बांध लूँ।
कभी यह भी सोचा की,
क्यों न इसे गुब्बारे में बांध कर,
कहीं खिड़की या दरवाज़े पर टांक दूँ।
और कभी यह निश्चय किया की,
किसी बोतल में बंद करके ,अलमारी /तिजोर;
में रख दूँ.
किन्तु यह क्या !
मेरे सभी प्रयास विफल हो गए.
मेरा जीवन !
जिसे मैने नगीने की भांति संभाल कर
रखा था अब तक।
समय की ऐसी ठोकर लगी,
और मैं भूमि पर गिर गयी।
कितनी असहाय मैं!
अपने जीवन को अपने वश में ना कर सकें।
और मेरा यह जीवन,
मेरे हाथों से फिसल कर,
टूटकर ,बिखर कर,
बंधन मुक्त होकर,
भूमि में समां गयाें।
और मैं अब ,स्वयं अपनी लाश,
लेकर आई हूँ नदी के तट पर,
अपने तर्पण हेतु।

Language: Hindi
1 Like · 859 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
Gouri tiwari
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ बातों बातों में...
■ बातों बातों में...
*Author प्रणय प्रभात*
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
Surinder blackpen
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
दर्द को उसके
दर्द को उसके
Dr fauzia Naseem shad
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Neeraj Agarwal
3103.*पूर्णिका*
3103.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क़ के समंदर में
इश्क़ के समंदर में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मौजु
मौजु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
ये रिश्ते हैं।
ये रिश्ते हैं।
Taj Mohammad
"मानद उपाधि"
Dr. Kishan tandon kranti
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
फितरत
फितरत
kavita verma
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
Pramila sultan
12. घर का दरवाज़ा
12. घर का दरवाज़ा
Rajeev Dutta
Loading...