Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

प्रमेय

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* प्रमेय *

गर खिलो तो सूरज मुखी से खिलो
प्रतिभा अपनी को चहुँमुखी विकसित करो ।
गर खिलो तो सूरज मुखी से खिलो
संशयात्मक ज्ञान का मत ज्ञान लो ।
व्योम में तुम कल्पना के सुमन खिलाओ
स्वप्न दृष्टा बनों प्रखर उधयमी बनों ।
न हो विकल नीति सुनिश्चित तो करो
खण्ड खण्ड हो जाओगे, नाहक चिंता न करो ।
विधि के विधान के दांत गिन पर्वत हनन करो
तन को वज्र जैसा बनाओ हिम्मत करो ।
कौन कहता है पुरुष, सृष्टि में सर्वोच्च है ।
मगर ये भरम, तुम तो पाले ही रहो ।
गर खिलो तो सूरज मुखी से खिलो ।
प्रतिभा अपनी को चहुँमुखी विकसित करो ।
प्रतिस्पर्धा से लेकर प्रीति का परामर्श, आगे बढ़ो ।
ईर्ष्या से विखंडित होना अब बिल्कुल त्याग दो ।
सूर्य पुत्र हो तुम्हारी क्षमताएँ होंगी असंख्य ।
अपनी ऊर्जा को मात्र धनात्मक कर्म में केंद्रित करो ।
हार से हार तुम कभी स्वीकार कर मत लेना ।
हार को हथियार बना कर वार अरि पर करो ।
गर खिलो तो सूरज मुखी से खिलो
प्रतिभा अपनी को चहुँमुखी विकसित करो ।
गर खिलो तो सूरज मुखी से खिलो

314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तितलियां
तितलियां
Adha Deshwal
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*सौम्य व्यक्तित्व के धनी दही विक्रेता श्री राम बाबू जी*
*सौम्य व्यक्तित्व के धनी दही विक्रेता श्री राम बाबू जी*
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज बगिया में था सम्मेलन
आज बगिया में था सम्मेलन
VINOD CHAUHAN
25)”हिन्दी भाषा”
25)”हिन्दी भाषा”
Sapna Arora
गर्मी आई
गर्मी आई
Manu Vashistha
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
Shweta Soni
मेरी अर्थी🌹
मेरी अर्थी🌹
Aisha Mohan
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब कौन-कौन परखेगा यूं हमें,
अब कौन-कौन परखेगा यूं हमें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
सत्य कुमार प्रेमी
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...