Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

प्रतिश्रुति

डॉ अरुण कुमार शास्त्री , एक अबोध बालक-अरुण अतृप्त
प्रतिश्रुति

दर्द देकर भी कोई कैसे जी लेता है ।।
मनुज होकर मनुज को पीड़ा देता है ।।
तंज से भरी उलझनों से बोझिल पोटली,
उठाये उठाये, अवसादित क्षोभ को पीता है।।
सहानुभूतियों ने मुझको क्या क्या नही दिया ।।
एक निष्ठुर, एक कुंठित हृदय सा जीवन दिया ।।
अकर्मा बनाया, अघोषित, साधुत्व भी तो दिया ।।
आत्म सम्मान ले कर मुझे परनिर्भर बना दिया ।।
आया था किसलिए जगत में और क्या हूँ कर रहा ।।
प्राकृत व्यवस्था का तो मुझको दुश्मन बना दिया ।।
रूठ कर भी जाने लगूँ तो जाऊँगा मैं अब कहाँ ।।
अबोध अरुण को तो मेरे व्यक्तित्व का हिस्सा बना दिया ।।
दूर हो गए हैं आज, जो लोग कभी सबसे करीब थे ।।
झेला था उन्होंने हद तक, फिर दिल से भुला दिया।।
करते भी और क्या वो मुझ से बिगड़े बदनसीब का ।।
मौका तो दिया था खूब आखिर को सर झुका लिया ।।
चलो पलायन को समझने की कोशिश करूंगा मैं।।
ये उधार ले ले कर ऐसी जिंदगी अब ना जियूँगा मैं ।।
तेरी समझ ने तो मुझको अपना भविष्यफल दिखा दिया ।।
तुम भी चली गई ये कह के तुम सुधरने से तो रहे ।।
इसी वजह से हमने दूरियों को साथी बना लिया ।।
एहसास होता तो जाने की बात ही न उठती सखी ।।
बुझे बुझे से मन से था एय दोस्त तुमको विदा किया ।।

119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
फागुन का महीना आया
फागुन का महीना आया
Dr Manju Saini
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
Raazzz Kumar (Reyansh)
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
💐प्रेम कौतुक-265💐
💐प्रेम कौतुक-265💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#क्षमा_वीरस्य_भूषणम
#क्षमा_वीरस्य_भूषणम
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज से
Dr fauzia Naseem shad
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
जहाँ खुदा है
जहाँ खुदा है
शेखर सिंह
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Sakshi Tripathi
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
Taj Mohammad
You can't AFFORD me
You can't AFFORD me
Vandana maurya
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
*अयोध्या धाम पावन प्रिय, जगत में श्रेष्ठ न्यारा है (हिंदी गज
Ravi Prakash
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सारथी
सारथी
लक्ष्मी सिंह
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
Outsmart Anxiety
Outsmart Anxiety
पूर्वार्थ
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
दुम
दुम
Rajesh
कविता
कविता
Rambali Mishra
2962.*पूर्णिका*
2962.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
Ranjana Verma
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
Loading...