Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

प्रतिशोध

क्रोध , वैमनस्य, प्रतिस्पर्धा की उत्पत्ति ,
विवेक भंजन नकारात्मक संहारक शक्ति ,

अंतस अनल उत्सर्जित दहन भावना ,
घृणा प्रेरित विनाशक प्रतिकार कामना ,

ह्रदय कंटक बनी कष्ट कारक अनुभूति ,
वाणी , विचार ,आचार , व्यवहार नकारात्मक अभिव्यक्ति ,

सतत् संचरित द्वेषगरल युक्त संघर्षरत् जीवन ,
तिमिरयुक्त अंतःकरण शत्रुवत् हानिकारक मन।

Language: Hindi
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
Ragini Kumari
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मां शैलपुत्री
मां शैलपुत्री
Mukesh Kumar Sonkar
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
💐अज्ञात के प्रति-73💐
💐अज्ञात के प्रति-73💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"दीप जले"
Shashi kala vyas
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
मुश्किल हालात हैं
मुश्किल हालात हैं
शेखर सिंह
2534.पूर्णिका
2534.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
छलावा
छलावा
Sushmita Singh
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
Dr MusafiR BaithA
जुबाँ चुप हो
जुबाँ चुप हो
Satish Srijan
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
शैक्षिक विकास
शैक्षिक विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम्हारी वजह से
तुम्हारी वजह से
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...