Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2022 · 1 min read

पैसा

पैसे ने इंसान को,
कहाँ से कहाँ पहुँचा दिया,
कभी जिंदगी से दूर किया,
कभी पास ला दिया,
फुटपाथ पर गरीब पैसे के लिए रोता है,
महल में अमीर भी पैसे के लिए ही जागता-सोता है,
बिन पैसे दुनिया में कोई इज्जत नहीं पाता है,
पैसा है जेब में तो हर रिश्ता, हर नाता है,
बिन पैसे उदास दिन, सूनी रातें हैं,
पैसा हो तो दुनिया भर की करामाते हैं,
पैसे की अजब माया है,
जिसे कोई समझ न पाया है,
कहते हैं –
इंसान ने पैसे को बनाया था,
अपनी सुख-सुविधा के लिए,
इसे अस्तित्व में लाया था,
आज पैसा इंसान को बना रहा है,
अपने इशारे पर दुनिया चलवा रहा है
ऐसे में दिल यही दोहरा रहा है –
कंचन माया राखिए, बिन माया जग सूना।
इसकी खातिर लगा रहा, भाई-भाई को चूना॥

रचनाकार :- कंचन खन्ना, कोठीवाल नगर,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०९.०१.२०१६.

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2 Comments · 207 Views
You may also like:
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:41
AJAY AMITABH SUMAN
प्रतीक्षित
Shiva Awasthi
शोहरत नही मिली।
Taj Mohammad
*हर क्षण मुस्कुराता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पंचशील गीत
Buddha Prakash
✍️ मिलाप...
'अशांत' शेखर
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
भूख
श्री रमण 'श्रीपद्'
खांसी की दवाई की व्यथा😄😄
Kaur Surinder
एकता
Aditya Raj
'घायल मन'
पंकज कुमार कर्ण
नारी से संबंधित दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीने की वजह
Seema 'Tu hai na'
महाराणा प्रताप
jaswant Lakhara
महाकवि दुष्यंत जी की पत्नी राजेश्वरी देवी जी का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Writing Challenge- मुस्कान (Smile)
Sahityapedia
Shyari
श्याम सिंह बिष्ट
मोहब्बत के वादे
Umender kumar
औरतों की हैसियत
Shekhar Chandra Mitra
सिरत को सजाओं
Anamika Singh
■ क़तआ / किरदार
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाल कविता —टेडी बेयर
लक्ष्मी सिंह
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
कुछ मुझको लिखा होता
Dr fauzia Naseem shad
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
Loading...