Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

पुस्तकों की पुस्तकों में सैर

पन्नों पर रची कल्पना सृष्टि
उड़ती परियां, वाचाल पक्षी और दिव्य दृष्टि !

एक दिन छोड़कर माया
प्रवेश हुई पुस्तक में काया |

बैठी छांव कल कल्पवृक्ष के
और पारस से स्वर्ण बनाया |

चंद्रकांता की तिलस्म में खो गए
दुष्यंत को भी मुद्रिका थमाया |

सिंदबाद के संग सागर की लहरों पर
चतुर्दिक शौर्य की पात्र बने |

मित्र अभिन्न कुछ चढ़े कसौटी,
खैर पुस्तक बंद कर जो मैं लौटी,
सब वैसे ही मिला तथ्यता के यथार्थ धाम,
पर हृदय में समाए थे ग्रंथ तमाम !

Language: Hindi
26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
View all
You may also like:
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
धृतराष्ट्र की आत्मा
धृतराष्ट्र की आत्मा
ओनिका सेतिया 'अनु '
3334.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3334.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
पिताश्री
पिताश्री
Bodhisatva kastooriya
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
The_dk_poetry
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
देखना हमको फिर नहीं भाता
देखना हमको फिर नहीं भाता
Dr fauzia Naseem shad
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
जिंदगी में आपका वक्त आपका ये  भ्रम दूर करेगा  उसे आपको तकलीफ
जिंदगी में आपका वक्त आपका ये भ्रम दूर करेगा उसे आपको तकलीफ
पूर्वार्थ
**पर्यावरण दिवस **
**पर्यावरण दिवस **
Dr Mukesh 'Aseemit'
"आत्मावलोकन"
Dr. Kishan tandon kranti
■ फूट गए मुंह सारों के। किनारा कर रहे हैं नपुंसक। निंदा का स
■ फूट गए मुंह सारों के। किनारा कर रहे हैं नपुंसक। निंदा का स
*प्रणय प्रभात*
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नेता जी
नेता जी
Sanjay ' शून्य'
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
औरत तेरी गाथा
औरत तेरी गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
शाकाहार स्वस्थ आहार
शाकाहार स्वस्थ आहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#उलझन
#उलझन
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
Loading...