Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

पुलवामा वीरों को नमन

पुलवामा वीरों को नमन
——————————–
ललकार के लड़ना सीखा है,
कभी पीठ पर वार नहीं करते।
हम भारत माँ के सेनानी,
रण में मरने से नहीं डरते।

जब हम हथियार उठाते हैं,
दुश्मन का बचता नाम नहीं।
तुम छिप के घात लगाते हो,
ये वीरों का है काम नहीं।

लड़ने की चाह है जगी अगर,
तुम ललकारो हम ललकारें।
पर चुपके चुपके चोरी से,
न तुम मारो न हम मारें।

कभी पाक में बैठे बापों से,
मेरी शौर्य कहानी सुन लेना।
जो भी रणक्षेत्र तुम्हें भाये,
अपनी मर्जी से चुन लेना।

जितने संग्राम हुये खुल के,
सीमा से तुम्हें भगाया है।
हर बार युद्ध में हारे हो,
जब भी हथियार उठाया है।

छिप करके था प्रहार तेरा,
बुझदिल समान है बात किया।
चोरों की भाँती चुपके से,
वाहन पर है आघात दिया।

धोखे से मारा गद्दारों,
आते समक्ष दिखला देते।
तुम होते कितने फन्ने खां,
वहीं धरती में दफना देते।

होती गर जंग सामने से,
पुलवामा कथा और होती।
लाशों में लाश गिराते हम,
सालों तक औलादें रोती।

हे! मां के लाल प्रणाम मेरा,
तुमने अपना हक़ अदा किया।
उन वीरों को श्रद्धा अर्पण,
जिसने माटी को लहू दिया।

Language: Hindi
99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
parvez khan
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
"तजुर्बा"
Dr. Kishan tandon kranti
2437.पूर्णिका
2437.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सजावट की
सजावट की
sushil sarna
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
SHAMA PARVEEN
यह जिंदगी का सवाल है
यह जिंदगी का सवाल है
gurudeenverma198
परेशां सोच से
परेशां सोच से
Dr fauzia Naseem shad
*घूम रहे जो रिश्वत लेकर, अपना काम कराने को (हिंदी गजल)*
*घूम रहे जो रिश्वत लेकर, अपना काम कराने को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
*नई मुलाकात *
*नई मुलाकात *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
सौंदर्य छटा🙏
सौंदर्य छटा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा
दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
Rituraj shivem verma
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
वर्षा रानी⛈️
वर्षा रानी⛈️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...