Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 2 min read

*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*

पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
पीयूष जिंदल के निधन के समाचार से मुझे गहरा धक्का लगा। आयु में वह मुझसे एक या दो साल छोटे रहे होंगे। कुछ वर्ष पूर्व उनको हृदय रोग के कारण स्टंट पड़े थे, लेकिन यह आजकल साधारण-सी बात है। 12 फरवरी 2024 सोमवार को वह रोजमर्रा की तरह सुबह उठकर मिस्टन गंज स्थित अपनी दुकान पर गए। दोपहर को घर वापस आए तथा शाम 4:30 बजे के करीब उनको संभवतः गंभीर हार्ट अटैक पड़ा। स्थानीय अस्पताल लेकर गए। भारी प्रयत्न के बाद भी बचाया न जा सका।

दुबला-पतला शरीर उनका हमेशा से रहा। प्रायः शांत और गंभीर रहते थे। मुस्कुराने की कला में भी वह पारंगत थे। सबसे सामंजस्य बनाकर चलने में वह निपुण थे। इसीलिए तो सामाजिक उत्तरदायित्वों का विशाल भार वह लंबे समय से अपने कंधे पर उठाए हुए थे।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के वह केवल जिला अध्यक्ष ही नहीं थे, अपितु संगठन को खड़ा करना और उसकी आवाज समय-समय पर बुलंद करते रहना उनके कारण ही संभव हो पा रहा था। व्यापारी बंधुओ को एक उद्देश्य को लेकर व्यापार मंडल के क्रियाकलापों से जोड़ देना उनकी विशेषता रही। वैश्य संगठन भी उन्होंने खड़ा किया और उसे पूरे दमखम के साथ चलाया। चंपा कुंवारि न्यास धर्मशाला के वह पुराने संचालकों में से थे। लंबे समय तक उन्होंने इसके संचालन में दिलचस्पी ली और इसे भव्य ऊंचाइयों तक पहुंचाया । शमशान भूमि स्वर्गधाम के संचालन का काम भी उनके सामाजिक क्रियाकलापों का एक हिस्सा था। शमशान घाट अच्छी प्रकार से चले, इसमें वह व्यक्तिगत रुचि लेते थे। किसी चीज की कमी न हो और संस्था को चलते रहने में कोई बाधा न आए, यह देखना भी एक बड़ा काम होता है जो उन्होंने अंत तक किया।

अन्य सामाजिक कार्यों पर भी उनकी नजर रहती थी और वह चाहते थे कि वह सही प्रकार से चलें। सर्राफा बाजार में जच्चा बच्चा केंद्र के अंदर शौचालय जब लंबे समय तक अनुपयोगी होकर पड़ा रहा तब उन्होंने इस प्रश्न को जोर-जोर से प्रशासन के सामने उठाया और अंततः इस कार्य को पूरा करना प्रशासन की प्राथमिकताओं में गिना जाने लगा।

कूॅंचा परमेश्वरी दास (बाजार सर्राफा, निकट मिस्टन गंज) में उनका पुश्तैनी निवास था। मौहल्ले और उसके इर्द-गिर्द उनके स्नेह से भरे स्वभाव के सभी प्रशंसक थे। व्यक्तिगत रूप से उनके मधुर संबंधों का दायरा बहुत विशाल था। उन्हें सबसे प्रेम था और सब उनसे प्रेम करते थे। उनके न रहने से सार्वजनिक जीवन में एक बड़ी भारी रिक्तता आ गई है। लंबे समय तक उनका अभाव रामपुर शहर में खलता रहेगा।
➖➖➖➖➖➖➖➖
रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997675451

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
दोस्ती के नाम.....
दोस्ती के नाम.....
Naushaba Suriya
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
#आज_की_कविता :-
#आज_की_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
306.*पूर्णिका*
306.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मस्ती के मौसम में आता, फागुन का त्योहार (हिंदी गजल/ गीतिका)
मस्ती के मौसम में आता, फागुन का त्योहार (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
कवि दीपक बवेजा
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तू रूठा मैं टूट गया_ हिम्मत तुमसे सारी थी।
तू रूठा मैं टूट गया_ हिम्मत तुमसे सारी थी।
Rajesh vyas
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
Satish Srijan
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
Shubham Pandey (S P)
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
हर बार सफलता नहीं मिलती, कभी हार भी होती है
हर बार सफलता नहीं मिलती, कभी हार भी होती है
पूर्वार्थ
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
ऐंचकताने    ऐंचकताने
ऐंचकताने ऐंचकताने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" आज भी है "
Aarti sirsat
दिल में जो आता है।
दिल में जो आता है।
Taj Mohammad
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
"हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
आर.एस. 'प्रीतम'
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
विषय
विषय
Rituraj shivem verma
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र"
Dr Meenu Poonia
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संघर्ष के बिना
संघर्ष के बिना
gurudeenverma198
Loading...