Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

पाश्चात्यता की होड़

“पाश्चात्यता की होड़”
छोड़कर अपने रीति रिवाज और धार्मिक परंपराएं,
संस्कृति पर हावी होने लगी हैं पाश्चात्य सभ्यताएं।
बड़े बुजुर्गों के बनाए हुए सारे कायदे और उसूल,
आधुनिकता की दौड़ में युवा पीढ़ी गई हैं भूल।
पाश्चात्यता के अंधानुकरण के कुचक्र में फंसकर,
युवा पीढ़ी भूल गई है रीति रिवाज और संस्कार।
विदेशों में आज हो रही भारतीय संस्कृति की बड़ाई,
देश के युवा कर रहे पश्चिमी देशों की देखा दिखाई।
स्वदेशी सभ्यता और संस्कृति आज युवा रहे हैं छोड़,
पश्चिमी सभ्यता की नकल करने में मची हुई है होड़।
धर्म और संस्कृति ही हमारी सफलता के मूल मंत्र हैं,
रोको पाश्चात्यता की अंधी दौड़ को भले हम स्वतंत्र हैं।
धर्म संस्कृति और सभ्यता से ही दुनिया में है हमारी पहचाने,
युवाओं को चाहिए पाश्चात्यता और भारतीयता में फर्क को जाने।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
😢साहित्यपीडिया😢
😢साहित्यपीडिया😢
*Author प्रणय प्रभात*
हमको
हमको
Divya Mishra
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
कवि दीपक बवेजा
जनहित (लघुकथा)
जनहित (लघुकथा)
Ravi Prakash
उद् 🌷गार इक प्यार का
उद् 🌷गार इक प्यार का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
"सुगर"
Dr. Kishan tandon kranti
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी आत्मा ईश्वर है
मेरी आत्मा ईश्वर है
Ms.Ankit Halke jha
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
Vindhya Prakash Mishra
तारीख़ के बनने तक
तारीख़ के बनने तक
Dr fauzia Naseem shad
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
बाल कविता: वर्षा ऋतु
बाल कविता: वर्षा ऋतु
Rajesh Kumar Arjun
सुनो...
सुनो...
हिमांशु Kulshrestha
💐प्रेम कौतुक-429💐
💐प्रेम कौतुक-429💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...