Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

पलाश का साधुत्व

ऐ पलाश! मैंने देखा है तुम्हें फूलते हुए,
देखा है मैंने-
तुम्हारी कोंप-कोंप से प्रस्फुटित होते-
यौवन को..
मैंने देखा है,
तुम्हें वर्ष भर फाल्गुन की बाँट जोहते…

पर,नहीं देखा मैंने-
बचपन आज के बच्चों में,
यौवन आज के युवाओं में,
और मैंने नहीं देखी-
गरिमामयी वृद्धावस्था…

हाँ,मैंने जरूर देखा-
असमय युवा होते बचपन को,
युवावस्था में वृद्ध होते यौवन को
और वृद्धावस्था में युवा दिखने की
चेष्टा करते प्रौढ़ को…….

और मैंने देखा है-
हर पल,हर कदम,हर क्षण,
मरते आदमी को,,,,

यदि नहीं देखा ,
तो बस ..
तुम्हारे जैसा साधू-ऐ पलाश!
जो साल भर ,,
करता हो फाल्गुन का इंतज़ार..
और आते ही यौवन,,
धारण कर लेता हो-
जोगिया चोला-
हर शाख …हर प्रस्फुटन…..

शुचि(भवि)

Language: Hindi
Tag: कव्वाली
1 Like · 4 Comments · 538 Views
You may also like:
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
सावन
Mansi Tripathi
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
#खुद से बातें...
Seema 'Tu hai na'
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
"वृद्धाश्रम" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
✍️हृदय में मिलेगा मेरा भारत महान✍️
'अशांत' शेखर
ऐसे क्यों मुझे तड़पाते हो
Ram Krishan Rastogi
ये कैसी आज़ादी - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Acharya Rama Nand Mandal
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
दिल कोई आरज़ू नहीं करता
Dr fauzia Naseem shad
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पिता
Rajiv Vishal
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
किसने सोचा था कि
Shekhar Chandra Mitra
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
जियो उनके लिए/JEEYO unke liye
Shivraj Anand
आइए रहमान भाई
शिवानन्द सिंह 'सहयोगी'
निरक्षता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दरख्तों से पूँछों।
Taj Mohammad
कई शामें शामिल होकर लूटी हैं मेरी दुनियां /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...