Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2024 · 1 min read

“पनाहों में”

“पनाहों में”
दर्द उसकी पनाहों में
सँवर नहीं पाता है,
जिन्दा होकर भी जो
अन्दर से मर जाता है.

2 Likes · 2 Comments · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
सोचता हूँ  ऐ ज़िन्दगी  तुझको
सोचता हूँ ऐ ज़िन्दगी तुझको
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
Shweta Soni
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
माँ तुम याद आती है
माँ तुम याद आती है
Pratibha Pandey
जिनके नौ बच्चे हुए, दसवाँ है तैयार(कुंडलिया )
जिनके नौ बच्चे हुए, दसवाँ है तैयार(कुंडलिया )
Ravi Prakash
बड़ी मुद्दतों के बाद
बड़ी मुद्दतों के बाद
VINOD CHAUHAN
“ बधाई आ शुभकामना “
“ बधाई आ शुभकामना “
DrLakshman Jha Parimal
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
यारी
यारी
Dr. Mahesh Kumawat
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
Neelam Sharma
3119.*पूर्णिका*
3119.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिसका समय पहलवान...
जिसका समय पहलवान...
Priya princess panwar
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
"व्यर्थ है धारणा"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता
कविता
Rambali Mishra
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
🌸*पगडंडी *🌸
🌸*पगडंडी *🌸
Mahima shukla
चश्मे
चश्मे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
मधुर स्मृति
मधुर स्मृति
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
Loading...